Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2016 · 1 min read

नटखटिया दोस्ती

यार दोस्ती भी क्या अजीब रिस्ता है,
साथ-साथ खेलते हैं, हंसते हैं
और फिर जम कर लङते हैं
कौन यह झूठ कहता है कि
दोस्त कभी लङते नहीं
हां लङने के बाद रूठते मनाते भी है,
कभी वो मेरी नहीं सुनता,
कभी मैं उसकी नहीं, फिर
कुछ देर की कलह और
फिर साथ में मुस्कुराते हैं
कभी गले में हाथ डालकर घूमते हैं,
कभी उन्हीं हाथों से एक दूसरे की
टकली बजाते हैं, और फिर
गले लग जाते हैं, कभी एक
सुर में राग खींचते हैं, और
कभी एक दूसरे की टांग,
पर तमाम मतभेद कभी
मनभेद में नहीं बदल पाते,
दोस्ती वो धुन है जिसके सुर,
न तो तानपुरे में समाते हैं,
और न ही ठुमरी, कजरी,
यवन और मेघमल्हार में पूरे आते हैं,
ये धुन तो बस दिल के तानपुरे पर,
भरोसे के राग में ही गाई जा सकती है॥

पुष्प ठाकुर

Language: Hindi
Tag: कविता
310 Views
You may also like:
लाल टोपी
मनोज कर्ण
सुनो
shabina. Naaz
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
सच
विशाल शुक्ल
भाभी जी आ जाएगा
Ashwani Kumar Jaiswal
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
बारिश
Saraswati Bajpai
अब कितना कुछ और सहा जाए-
डी. के. निवातिया
कवित्त
Varun Singh Gautam
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
भारत का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रतीक्षा करना पड़ता।
विजय कुमार 'विजय'
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नया नियम है (बाल कविता)
Ravi Prakash
डरता हूं
dks.lhp
आस का दीपक
Rekha Drolia
✍️✍️किरदार चाहिए था✍️✍️
'अशांत' शेखर
बस तू चाहिए
Harshvardhan "आवारा"
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नींदों से कह दिया है
Dr fauzia Naseem shad
दामोदर लीला
Pooja Singh
भोजपुरी भाषा
Er.Navaneet R Shandily
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
Loading...