Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2016 · 1 min read

नटखटिया दोस्ती

यार दोस्ती भी क्या अजीब रिस्ता है,
साथ-साथ खेलते हैं, हंसते हैं
और फिर जम कर लङते हैं
कौन यह झूठ कहता है कि
दोस्त कभी लङते नहीं
हां लङने के बाद रूठते मनाते भी है,
कभी वो मेरी नहीं सुनता,
कभी मैं उसकी नहीं, फिर
कुछ देर की कलह और
फिर साथ में मुस्कुराते हैं
कभी गले में हाथ डालकर घूमते हैं,
कभी उन्हीं हाथों से एक दूसरे की
टकली बजाते हैं, और फिर
गले लग जाते हैं, कभी एक
सुर में राग खींचते हैं, और
कभी एक दूसरे की टांग,
पर तमाम मतभेद कभी
मनभेद में नहीं बदल पाते,
दोस्ती वो धुन है जिसके सुर,
न तो तानपुरे में समाते हैं,
और न ही ठुमरी, कजरी,
यवन और मेघमल्हार में पूरे आते हैं,
ये धुन तो बस दिल के तानपुरे पर,
भरोसे के राग में ही गाई जा सकती है॥

पुष्प ठाकुर

Language: Hindi
457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pushpendra Rathore
View all
You may also like:
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
धूप
धूप
Rekha Drolia
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चार वीर सिपाही
चार वीर सिपाही
अनूप अम्बर
दोस्ती
दोस्ती
Rajni kapoor
निगल रही
निगल रही
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ एक मुक्तक...
■ एक मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🌹लाफ्टर थेरेपी!हे हे हे हे यू लाफ्टर थेरेपी🌹
🌹लाफ्टर थेरेपी!हे हे हे हे यू लाफ्टर थेरेपी🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुछ तो खास है उसमें।
कुछ तो खास है उसमें।
Taj Mohammad
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तीन दोहे
तीन दोहे
Vijay kumar Pandey
मैं कवि हूं
मैं कवि हूं
Shyam Sundar Subramanian
एक सबक इश्क का होना
एक सबक इश्क का होना
AMRESH KUMAR VERMA
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*
*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
गुमनाम ही रहने दो
गुमनाम ही रहने दो
VINOD CHAUHAN
कभी कभी ये पलकें भी
कभी कभी ये पलकें भी
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...