Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

नज़्म/कविता – जब अहसासों में तू बसी है

जब अहसासों में तू बसी है,
तेरी ही मुझमें मदहोशी है,
कैसे कह दूँ के तू यहाँ नहीं है,
कैसे कह दूँ के ख़ामोशी है।

जब अहसासों में तू बसी है,
तेरी ही मुझमें मदहोशी है।

बारिशों की लय-तालों से,
लहलहाते पेड़ों की ड़ालों से,
झूमती-गाती ये हवा चली है,
प्रेम की फ़िर कलि खिली है।

जब अहसासों में तू बसी है,
तेरी ही मुझमें मदहोशी है।

अपने किस्से-कहानियों में,
मिलने की परेशानियों में,
जद्दोजहद छोटी है ना बड़ी है,
आसाँ सी लगती ये हर घड़ी है।

जब अहसासों में तू बसी है,
तेरी ही मुझमें मदहोशी है।

भले जहां में बहुत ख़राबे हैं,
इन तन्हाइयों में शोरशराबे हैं,
पुरवाई नहीं नासाज़ चली है,
प्यार की वो ही आग जली है।

जब अहसासों में तू बसी है,
तेरी ही मुझमें मदहोशी है।

बेजान सी कुलबुलाहटों से,
बिस्तर की इन सलवटों में,
जान जाओगे के नींद से ठनी है,
रात भर कोई कहानी बनी है।

जब अहसासों में तू बसी है,
तेरी ही मुझमें मदहोशी है।

(नासाज़ = प्रतिकूल, शिथिल)

©✍🏻 स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507,
9950538424,
anilk1604@gmail.com

2 Likes · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
ruby kumari
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
#लघुकथा / #बेरहमी
#लघुकथा / #बेरहमी
*Author प्रणय प्रभात*
गुलामी के कारण
गुलामी के कारण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
प्रिय विरह - २
प्रिय विरह - २
लक्ष्मी सिंह
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
Shekhar Chandra Mitra
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
वो दौर अलग था, ये दौर अलग है,
वो दौर अलग था, ये दौर अलग है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
वो गली भी सूनी हों गयीं
वो गली भी सूनी हों गयीं
The_dk_poetry
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
कोई कितना
कोई कितना
Dr fauzia Naseem shad
" जुबां "
Dr. Kishan tandon kranti
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
*अमर रहेंगे वीर लाजपत राय श्रेष्ठ बलिदानी (गीत)*
*अमर रहेंगे वीर लाजपत राय श्रेष्ठ बलिदानी (गीत)*
Ravi Prakash
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
3140.*पूर्णिका*
3140.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
Vishal babu (vishu)
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
Loading...