Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

नई रीत विदाई की

बाबुल इस घर के सभी मेरे अपनों का मुझसे तुम प्यार ना छीनो।
इस घर की दीपक मैं भी तो हूँ,मुझसे ये मेरा अधिकार ना छीनो।।
लड़की का रूप पाया मैंने तो,इसमें दुनिया वालों मेरी क्या गलती है।
बतलाओ अपने ही घर में क्यों,लड़की पराई बता बता कर पलती है।।
कितने नाज़ों नख़रों से हर घर में,लाडली देश के घर घर में पाली जाती है।
और फिर शादी के नाम पर लाडली,अपने ही घर से वो निकाली जाती है।।
बदलो बाबुल इस सोच को और समाज को मेरा नया संदेशा पहुँचाओ।
इस पुरानी प्रथा के बदले,मेरी शादी से नई प्रथा की शुरुआत कराओ।।
बाबुल के घर से कर शादी लड़की,अपने घर की तरफ़ पहला कदम बढ़ाती है।अपने पति के संग कर के शादी,तुम्हारी लाडली अपने घर की नींव रख पाती है।।
यह प्रथा लड़के और लड़की दोनों के बीच में विश्वास का दीप जलायेगी।
अपने घर से विदा होकर भी बाबुल तेरी लाडली तेरा घर अपना कह पाएगी।।
हर लड़कीं चाहती है कि वो भी अपने मात पिता की कामयाबी का कारण हो।
उसके द्वारा किये गये सभी काम भी उसके मात पिता के सम्मान का साधन हों।।
अब नहीं ज़रूरत होगी तुम्हें और भाई को सबके सामने हाथ जोड़कर आने की।
हिम्मत करनी होगी तुम्हें बाबुल मुझको सम्मान के साथ विदा कराने की।।
कहे विजय बिजनौरी नई प्रथा का एक एक शब्द लग रहा सच्चा है।
यदि हर बाबुल इसे अपना लेता है तो चलन इस प्रथा का अच्छा है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
1 Like · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
वैर भाव  नहीं  रखिये कभी
वैर भाव नहीं रखिये कभी
Paras Nath Jha
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुछ लड़के होते है जिनको मुहब्बत नहीं होती  और जब होती है तब
कुछ लड़के होते है जिनको मुहब्बत नहीं होती और जब होती है तब
पूर्वार्थ
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
नींद
नींद
Diwakar Mahto
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची  हैं उड़ाने,
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची हैं उड़ाने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
*तू भी जनता मैं भी जनता*
*तू भी जनता मैं भी जनता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सलाह"
Dr. Kishan tandon kranti
We make Challenges easy and
We make Challenges easy and
Bhupendra Rawat
बिटिया
बिटिया
Mukta Rashmi
"सारे साथी" और
*Author प्रणय प्रभात*
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
Loading...