Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके

धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके व्यक्तित्व में एक विशेष चमक होती है।

Paras Nath Jha

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
आज के रिश्ते
आज के रिश्ते
पूर्वार्थ
*हीरे को परखना है,*
*हीरे को परखना है,*
नेताम आर सी
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
इश्क की गलियों में
इश्क की गलियों में
Dr. Man Mohan Krishna
💐प्रेम कौतुक-470💐
💐प्रेम कौतुक-470💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त बनाये, वक्त ही,  फोड़े है,  तकदीर
वक्त बनाये, वक्त ही, फोड़े है, तकदीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2545.पूर्णिका
2545.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
इश्क बेहिसाब कीजिए
इश्क बेहिसाब कीजिए
साहित्य गौरव
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
*
*" कोहरा"*
Shashi kala vyas
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
Vinod Patel
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
देवमूर्ति से परे मुक्तिबोध का अक्स / MUSAFIR BAITHA
देवमूर्ति से परे मुक्तिबोध का अक्स / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*Author प्रणय प्रभात*
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
धर्म और विडम्बना
धर्म और विडम्बना
Mahender Singh
कोई नयनों का शिकार उसके
कोई नयनों का शिकार उसके
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...