Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

*धूप में रक्त मेरा*

धूप में रक्त मेरा

हर किरण के संग कदा
यह रक्त भी तपा होगा
बहा होगा पसीना फिर
सूरज तब खिला होगा।

जाने कितने पलों को
मैंने,मिट्टी में गूँधा होगा
इतिहासों को कितने जी
मैंने खुद ही रचा होगा।।

हर भट्टी में लावा पिघला
हर मुट्ठी से आवा निकला
लेकर छैनी और’हथौड़ा
सीना मेरा लोहा जकड़ा

कितने लम्हे आज़ाद किये
कितने सदमे सुकरात किये
जब हाथ बढ़ाया डाली पर
क़द अपना मचान किये।

तुम न जानो पल की कीमत
तुम न जानो कल की ज़ीनत
भर-भर अंजुरी मैं रोया हूँ
तब जाकर,शब्द जिया हूँ।।

बहियाँ मेरी, कहती बतियाँ
आ-जा आ-जा मेरी बिटिया
रूप रंग सागर यह सपना
कहाँ बिछोना, रहा खिलौना।।

शब्द लिखे, काटे फिर मैंने
गीत लिखे, साधे फिर मैंने
क़तरा-क़तरा मैं जीया हूँ
साँसों को थामे मैं खड़ा हूँ।।

सूर्यकांत

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
मैंने तो ख़ामोश रहने
मैंने तो ख़ामोश रहने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
rekha mohan
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
Sunil Suman
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब प्यार है
जब प्यार है
surenderpal vaidya
ਮੁੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਨਗ ਮਾਹੀਆ।
ਮੁੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਨਗ ਮਾਹੀਆ।
Surinder blackpen
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
विनती
विनती
Kanchan Khanna
Loading...