Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा

धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा,
जीवन जहां पर रुका, वहीं से शुरू हो जाएगा!!
ना तुमको हमराह ज़रूरत होगी हमसफ़र की,
ना हमको कोई तलब होगी किसी मयकशी की!!

ना हम तुमको ढूँढने आएँगे नवाज़िश की शामों में,
ना तुमको कोई आरज़ू होगी हमारी दिल-कशी की!!
ना हमको इंतज़ार होगा बजती फ़ोन की घंटियों का,
ना तुमको बेवजह ही उन बढ़ती हुई धड़कनों की!!

दौर है ये एक दिन थम जाएगा उमड़ती मोहब्बतों का,
ना बहते अश्कों का, ना कहकशों का सैलाब आएगा!!
हम यूँ ही खामोशियों को इस तरह ओढ़ लेंगे एक दिन,
तुम यूँ ही मेरा ग़ुरूर समझ एक दिन चुप हो जाओगे!!

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
Keshav kishor Kumar
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ श्रमजीवी को किस का डर...?
■ श्रमजीवी को किस का डर...?
*प्रणय प्रभात*
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
साथ अगर उनका होता
साथ अगर उनका होता
gurudeenverma198
"आदत में ही"
Dr. Kishan tandon kranti
आगे निकल जाना
आगे निकल जाना
surenderpal vaidya
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
#drarunkumarshastri♥️❤️
#drarunkumarshastri♥️❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
असली जीत
असली जीत
पूर्वार्थ
--शेखर सिंह
--शेखर सिंह
शेखर सिंह
काजल की महीन रेखा
काजल की महीन रेखा
Awadhesh Singh
ख्याल........
ख्याल........
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इबादत के लिए
इबादत के लिए
Dr fauzia Naseem shad
Loading...