Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

धीरज और संयम

धीरज और संयम के सामने भयंकर संकट भी धुए की तरह उड़ जाता है।

1 Like · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
Johnny Ahmed 'क़ैस'
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
2994.*पूर्णिका*
2994.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
Arvind trivedi
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
लौटेगी ना फिर कभी,
लौटेगी ना फिर कभी,
sushil sarna
"रातरानी"
Ekta chitrangini
मेरा यार
मेरा यार
rkchaudhary2012
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
"जिरह"
Dr. Kishan tandon kranti
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
Ravi Prakash
तुम हमारा हो ख़्वाब लिख देंगे
तुम हमारा हो ख़्वाब लिख देंगे
Dr Archana Gupta
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
Loading...