Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 3 min read

धार्मिक नहीं इंसान बनों

वर्तमान में हमारे देश की जो हालत है वो किसी से छुपी नहीं, कैसी विडम्बना है कि आज़ादी के उपरांत हम अलग-अलग धर्मों में विभक्त हो गये जबकि अंग्रेजों की गुलामी में हम सिर्फ भारतीय थे, कितनी कुर्बानियों के उपरांत हमने आज़ादी हासिल की लेकिन नतीजा क्या निकला हम हिन्दुस्तानी के बजाये हिन्दू-मुस्लिम, सिख-ईसाई बन गये, इसमें कोई दो राय नहीं है कि गंदी राजनीति ने आज हमारे देश को हर तरह से बरबाद कर दिया है लेकिन उन्हें उनके गंदी राजनीति के मकसद को कामयाब करने में क्या हम दोषी नहीं ? क्या हमारे सोचने समझने का दायरा इतना छोटा है कि हम सही गलत में भी अंतर नहीं कर पाते, हमारी मानवीय संवेदना भी धर्म देख कर आहत होती है तो क्या कहेंगे इसे इंसान जिसका मतलब ही इंसानियत है और अगर यही न हो तो फिर वो इंसान कहलाने के योग्य नहीं रहता और धार्मिक इंसान अपने अंदर पाये जाने वाले दया, क्षमा, करुणा आदि जैसे भावों के होने के कारण होता है जिनमें यही भाव न हो तो वो इंसान क्या और धार्मिक क्या झूठ, छल कपट, निकृष्टता ये इंसान होने की निशानियां नहीं होती, जब हमारी प्रकृति कोई भेदभाव नहीं करती तो हम कौन होते हैं भेदभाव करने वाले ? सब एक ही हवा में सांस लेते हैं वो क्या हम यो हवा बांट सकते हैं? अगर हमारा स्व भी हम इंसानों की तरह भेदभाव करने लगे तो क्या हम अपना अस्तित्व बचा सकते हैं? फिलहाल तो हम जीव जन्तुओं पशु पक्षियों से भी निम्न हो गये हैं जबकि हम इंसान जो कि अपने रब की सर्वश्रेष्ठ कृति है, शुक्र है इन पशु-पक्षियों के धर्म नहीं होते, गंभीरता से सोचने वाली बात है कि हम दुनिया में हमेशा के लिए रहने तो नहीं आये और कितना बड़ा सच है कि किसी को भी अपने आने वाले पल की खबर नहीं कि वो अभी जिन्दा है थोड़ी देर में ज़िन्दा होगा भी या नहीं, हम इतिहास भी उठा कर नहीं देखते तो समझ आ जाये कि कुछ भी स्थाई नहीं, इस कड़वी हकीक़त के उपरांत भी इंसान समझता नहीं है हम आपस में लड़ रहे हैं मर रहे हैं मार रहे हैं एक दूसरों की मौत पर खुश हो रहे हैं जश्न मना रहे हैं सच कहूँ तो यहाँ हम इंसान -इंसान नहीं रहते हम से बेहतर तो जानवर हैं जो लड़ते हैं तो अपने अस्तित्व के लिए और हम इंसान लड़ रहे हैं अपनी गंदी मानसिकता की संतुष्टि के लिए यहां धर्म को जोड़ना गलत होगा क्योंकि धर्म सिर्फ अच्छाई का प्रतीक होता न कि बुराई का नागरिकता कानून जिस नियत से बनाया गया है उसको बनाने वाले भी अच्छी तरह जानते हैं और मानसिक रूप से शिक्षित वो लोग भी जो विभिन्न धर्मों से सम्बन्ध रखते है जो इस कानून के दुःखद परिणाम से पूर्णता अवगत है, आज देखती हूँ पढ़ती हूँ लोगों की मानसिकता तो एहसास होता है कि हम सब कहाँ से कहां आ गये हैं हम किसके पीछे भाग रहे हैं क्या हासिल करना चाहते हैं हमारा देश जागे बढ़ने के विपरीत बहुत पीछे जा रहा है और हम क्या खो रहे हैं उसका अंदाज़ा भी नहीं लगाया जा सकता है ,अपने देश की वर्तमान अवस्था पर दिल में जो दुःख है उसको अभिवयक्त करने के लिए मेरे पास अलफाज़ भी नहीं, आखिर में इतना ही कहूँगी कि अपने दिलों में अपने रब का खौफ़ रखिये क्योंकि कोई देखे या न देखें वो देख रहा है, धार्मिक बनने से पहले अच्छा इंसान बनिये अपनी सोच को निष्पक्ष रखिये तार्किक बनिये, सही ग़लत में अंतर करना सीखिये, जो किसी के लिए सही नहीं है वो आपके लिए सही कैसे हो सकता है और ये भी छोड़ दीजिए तो इस बात को समझिये कि जो अच्छा इंसान नहीं वो रब को प्रिय कैसे हो सकता है, छोटी सी जिन्दगी हैं मोहब्बत के लिए ही कम है उसमें नफरतों को जगह देना अपना ही नुकसान करने जैसा है और ये हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम अपनी ज़िन्दगी को प्यार से स्वर्ग बनाते हैं या नफ़रत से नरक ,सोचना आपको है और समझना भी आपको ही है।
डॉ फौजिया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
9 Likes · 155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
A GIRL WITH BEAUTY
A GIRL WITH BEAUTY
SURYA PRAKASH SHARMA
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
*कभी मस्तिष्क से ज्यादा, हृदय से काम लेता हूॅं (हिंदी गजल)*
*कभी मस्तिष्क से ज्यादा, हृदय से काम लेता हूॅं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"ऐतबार"
Dr. Kishan tandon kranti
23/78.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/78.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
#विनम्र_शब्दांजलि
#विनम्र_शब्दांजलि
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
2) “काग़ज़ की कश्ती”
2) “काग़ज़ की कश्ती”
Sapna Arora
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
Harminder Kaur
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर लो कर्म अभी
कर लो कर्म अभी
Sonam Puneet Dubey
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
भारत का बजट
भारत का बजट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...