Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2022 · 2 min read

धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ?

जब भी धार्मिक कार्यक्रम व त्योहार आते हैं, तो एक समूह धार्मिक कार्यक्रम और त्योहारों के नाम पर गली-गली, गांव-गांव घूमकर पैसा वसूलना शुरू कर देता हैं। आखिर धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ? ठीक है आपको रामलीला, दुर्गापूजा व अन्य कोई धार्मिक कार्यक्रम करना है तो आप करिए, मगर किसी के घर में घुसकर किसी से आप जबरदस्ती 1000-2000 की मांग क्यों करते हो ? हम 1000, 2000 किसी धार्मिक कार्यक्रम के नाम पर क्यों दें ? जब हम किसी मुसीबत में होते हैं तो क्या तुम हमारे लिए धार्मिक कार्यक्रमों की तरह पैसा जमा करते हो ? नहीं.. नहीं… तो फिर!

कार्यक्रम और त्योहारों के नाम पर जबरदस्ती वसूली लगभग हर जगह होती है। क्या सरकार को इसके लिए कोई ठोस कानून बनाने की जरूरत नहीं है ? गांव में रामलीला कराने के नाम पर जबरदस्ती घर-घर घुसकर वसूली करते हैं, शहर में कभी कोई दुर्गा पूजा के नाम पर तो कभी कोई भंडारे के नाम पर तो कभी कोई किसी और धार्मिक कार्यक्रम के नाम पर जबरदस्ती वसूली होती हैं। अगर इस दौरान आप अपनी इच्छा से धनराशि देते हैं तो सामने वाला उस धनराशि को स्वीकार नहीं करता है, बल्कि आपसे जबरदस्ती एक ऐसे अमाउंट की मांग करने लग जाएगा जो शायद आप देने में एक नहीं करीब 10 बार सोचेंगे।

धार्मिक कार्यक्रम और त्योहार में जबरदस्ती पैसों की मांग करने वालों को कौन कहता है कि आप धार्मिक कार्यक्रम करिए ? धार्मिक कार्यक्रम और त्योहारों के नाम पर जो पैसा जमा होता है क्या वह पूरा धार्मिक कार्यक्रम में खर्च किया जाता है ? अगर वह पैसा धार्मिक कार्यक्रम पर खर्च होता है तो उसकी रिपोर्ट या पारदर्शिता किसी न्यूज़पेपर या चैनल के जरिए बताया क्यों नहीं जाता है ? क्या धार्मिक त्योहारों और कार्यक्रमों के नाम पर यह वसूली सही है ? धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर आप जबरदस्ती पैसा मांग कर लेकर चले जाते हैं, मगर किसी गरीब बच्चे की पढ़ाई, दवाई या किसी गरीब को खाना खिलाने के लिए आप जबरदस्ती वसूली नहीं करते हैं क्योंकि धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली करना ही आपका धर्म और व्यापार बन गया है। इसलिए हम सभी को धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती हो रही वसूली के खिलाफ बोलना और इसका विरोध करना होगा। तभी हम धार्मिक कार्यक्रम और त्योहारों के नाम पर अवैध जबरदस्ती हो रही वसूली को रोक सकते हैं।

– दीपक कोहली

1 Like · 277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
Umender kumar
........,?
........,?
शेखर सिंह
क्यों न्यौतें दुख असीम
क्यों न्यौतें दुख असीम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3014.*पूर्णिका*
3014.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
Love Night
Love Night
Bidyadhar Mantry
■ सियासी ग़ज़ल
■ सियासी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
Rekha khichi
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
हाथ की लकीरें
हाथ की लकीरें
Mangilal 713
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
खुला आसमान
खुला आसमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मेरे प्रेम पत्र 3
मेरे प्रेम पत्र 3
विजय कुमार नामदेव
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
Anil chobisa
*अपनेपन से भर सको, जीवन के कुछ रंग (कुंडलिया)*
*अपनेपन से भर सको, जीवन के कुछ रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
साथ
साथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...