Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*

धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)
_________________________
1)
धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान
श्याम वर्ण भाता रहे, मनमोहक मुस्कान
2)
नेत्रों में तुम बस गए, रामलला अभिराम
अंतर्मन से देखता, सुंदर मूरत श्याम
3)
धाम अयोध्या में बसे, बाल-रूप भगवान
दशरथ नंदन की सदा, देखूॅं मधु मुस्कान
4)
रामलला मन में रहे, सदा आपका चित्र
देह अयोध्या धाम हो, गतिमय श्वास पवित्र
5)
मंद-मंद मुस्कान है, जिनके नेत्र विशाल
रामलला रखिए सदा, सकल विश्व का ख्याल
6)
पूर्ण ब्रह्म अवतार हे, दशरथनंदन राम
कृपा दास पर कीजिए, करिए मन निष्काम
7)
हृदय सदा गाता रहे, राम राम जय राम
करता है शुचि-भावना, प्रभो तुम्हारा नाम
8)
बाल-रूप में राम-प्रभु, मन में रहिए आप
कट जाऍंगे इस तरह, जन्म-जन्म के ताप
9)
वर बस इतना दीजिए, रामलला अभिराम
कभी न बिछड़े आपसे, तीर्थ अयोध्या धाम
————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
छोड़ चली तू छोड़ चली
छोड़ चली तू छोड़ चली
gurudeenverma198
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
💐प्रेम कौतुक-519💐
💐प्रेम कौतुक-519💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
हम तो मतदान करेंगे...!
हम तो मतदान करेंगे...!
मनोज कर्ण
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2755. *पूर्णिका*
2755. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
VEDANTA PATEL
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
ruby kumari
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
यही वह सोचकर हमको, कभी वनवास देता है(मुक्तक)
यही वह सोचकर हमको, कभी वनवास देता है(मुक्तक)
Ravi Prakash
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
कबीर ज्ञान सार
कबीर ज्ञान सार
भूरचन्द जयपाल
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
SPK Sachin Lodhi
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...