Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2023 · 1 min read

धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।

धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
गोत्र वंश के नाम बहुत हैं गौतम कश्यप राठी हैं।
संविधान का राज़ बनाओ धर्मों में मत वार करो।
शोषित वंचित के हाथों में बची धर्म की लाठी हैं।।

सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर ‘

333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
साँवरिया तुम कब आओगे
साँवरिया तुम कब आओगे
Kavita Chouhan
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
*Author प्रणय प्रभात*
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
*राम मेरे तुम बन आओ*
*राम मेरे तुम बन आओ*
Poonam Matia
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3233.*पूर्णिका*
3233.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
Sapna Arora
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जय शिव-शंकर
जय शिव-शंकर
Anil Mishra Prahari
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
बुलंद हौंसले
बुलंद हौंसले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
*मजदूर*
*मजदूर*
Shashi kala vyas
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
Loading...