Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

धर्मांधता

इस शोर-शराबे को
हम धर्म कैसे मान लें!
इस धूम-धड़ाके को
हम धर्म कैसे मान लें!!
पाखंड, आडंबर और
अंधविश्वास से भरे हुए
इस खेल-तमाशे को
हम धर्म कैसे मान लें!!
#धर्मांधता #सांप्रदायिकता #कर्मकांड
#secularism #पाखंड #अंधविश्वास

Language: Hindi
188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
"बेज़ारे-तग़ाफ़ुल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
सीख
सीख
Dr.Pratibha Prakash
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
संस्मरण #पिछले पन्ने (11)
संस्मरण #पिछले पन्ने (11)
Paras Nath Jha
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
ख़ुदा बताया करती थी
ख़ुदा बताया करती थी
Madhuyanka Raj
गीत
गीत
गुमनाम 'बाबा'
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
नारियों के लिए जगह
नारियों के लिए जगह
Dr. Kishan tandon kranti
हाथ कंगन को आरसी क्या
हाथ कंगन को आरसी क्या
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
आप क्या समझते है जनाब
आप क्या समझते है जनाब
शेखर सिंह
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*प्रणय प्रभात*
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
Loading...