Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

धरा और हरियाली

धरा और इसमें हरियाली,
यहाँ जीवन और जीवित है प्राणी,
सौर मंडल का एकलौता ग्रह,
नीला ग्रह पृथ्वी है हरा भरा।

जल और थल से मिलकर बना,
वायुमंडल से है सम्पूर्ण घिरा,
सुरक्षा कवच प्राणियों के लिए बना,
पर्यावरण बहुत ही है बढ़िया।

सागर झील नदिया झरना और सरोवर,
पहाड़ पठार मैदान और मरुस्थल भूमि,
जंगल खेत बाग बगीचे और हरे पेड़,
चारो ओर है सुंदर परिवेश।

अपने पर्यावरण को पढ़े जरूर,
पर्यावरण सुरक्षित आप सुरक्षित,
पर्यावरण से जीवन है जुड़ा,
इसको बचाना कर्तव्य है सबका।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
"जो लोग
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
2833. *पूर्णिका*
2833. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये आरजू फिर से दिल में जागी है
ये आरजू फिर से दिल में जागी है
shabina. Naaz
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
कर दिया
कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
"मुझे पता है"
Dr. Kishan tandon kranti
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
Vivek Pandey
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
Vishal babu (vishu)
किन्नर व्यथा...
किन्नर व्यथा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
Ranjeet kumar patre
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
बदलता दौर
बदलता दौर
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
Loading...