Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 1 min read

#धरती-सावन

#धरती-सावन

सावन मेघा घिर-घिर बरसें, धरती की प्यास बुझाएँ।
नव आशाएँ हरियाली की, हरजन का मन हर्षाएँ।।
स्वच्छ हुआ रुत चमकीला बन, ध्यान खींचता जाए रे!
मन मस्ती में झूमे हरक्षण, गीत सुहाने गाए रे!!

नव पल्लव पुष्पों से सजकर, तरुवर हृदय लुभाते हैं।
दृश्य प्रकृति के पुलकित करते, मन में प्रेम जगाते हैं।।
तालाब भरे नदियाँ बहती, पवन हुआ मतवाला है।
आँगन-आँगन खुशियाँ नाचें, जन-मन भरा उजाला है।।

हरी चुनरिया ओढ़े धरती, अभिनव स्वप्न जगाती है।
हँसती गाती यौवन मद में, मीठे गीत सुनाती है।।
देख-देखकर रूप कृषक नव, फूला नहीं समाता है।
धरती माँ के स्नेह स्पर्श से, मन उज्ज्वल हो जाता है।।

#आर.एस.’प्रीतम’
सर्वाधिकार सुरक्षित रचना

Language: Hindi
2 Likes · 242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-449💐
💐प्रेम कौतुक-449💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
तेरा यूं मुकर जाना
तेरा यूं मुकर जाना
AJAY AMITABH SUMAN
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब हक़ीक़त
अब हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
तरुण सिंह पवार
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
2232.
2232.
Dr.Khedu Bharti
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
द कुम्भकार
द कुम्भकार
Satish Srijan
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
क्या करें
क्या करें
Surinder blackpen
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
देश और देशभक्ति
देश और देशभक्ति
विजय कुमार अग्रवाल
■ मुक्तक / काश...
■ मुक्तक / काश...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...