Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 1 min read

#धरती-सावन

#धरती-सावन

सावन मेघा घिर-घिर बरसें, धरती की प्यास बुझाएँ।
नव आशाएँ हरियाली की, हरजन का मन हर्षाएँ।।
स्वच्छ हुआ रुत चमकीला बन, ध्यान खींचता जाए रे!
मन मस्ती में झूमे हरक्षण, गीत सुहाने गाए रे!!

नव पल्लव पुष्पों से सजकर, तरुवर हृदय लुभाते हैं।
दृश्य प्रकृति के पुलकित करते, मन में प्रेम जगाते हैं।।
तालाब भरे नदियाँ बहती, पवन हुआ मतवाला है।
आँगन-आँगन खुशियाँ नाचें, जन-मन भरा उजाला है।।

हरी चुनरिया ओढ़े धरती, अभिनव स्वप्न जगाती है।
हँसती गाती यौवन मद में, मीठे गीत सुनाती है।।
देख-देखकर रूप कृषक नव, फूला नहीं समाता है।
धरती माँ के स्नेह स्पर्श से, मन उज्ज्वल हो जाता है।।

#आर.एस.’प्रीतम’
सर्वाधिकार सुरक्षित रचना

2 Likes · 91 Views
You may also like:
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
होती हैं अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
बरसात
मनोज कर्ण
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...