Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

धरती माँ ने भेज दी

धरती माँ ने भेज दी
अग्रिम ही राखी
संग चंद्रयान
मामा चंदा खुश हुआ
देख बहन का प्यार
सोचा उसने बढ़ गया
बहन घर मेरा मान
लैंडर ले गया साथ मे
पूर्ण किया अभियान
मेरा भारत महान
डॉ मंजु सैनी
गाज़ियाबाद

1 Like · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
People in your life should be a source of reducing stress, n
People in your life should be a source of reducing stress, n
पूर्वार्थ
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
कागज़ पे वो शब्दों से बेहतर खेल पाते है,
कागज़ पे वो शब्दों से बेहतर खेल पाते है,
ओसमणी साहू 'ओश'
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
Ravi Prakash
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
एक पंथ दो काज
एक पंथ दो काज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
Neeraj Agarwal
"नजारा"
Dr. Kishan tandon kranti
“गुरु और शिष्य”
“गुरु और शिष्य”
DrLakshman Jha Parimal
2864.*पूर्णिका*
2864.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
Shweta Soni
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
रूठकर के खुदसे
रूठकर के खुदसे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" मुशाफिर हूँ "
Pushpraj Anant
Loading...