Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*

धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)
_______________________________
धरती के सागर चरण ,गिरि हैं शीश समान
नदियाँ झरने खुशनुमा ,इसकी देह महान
इसकी देह महान ,हिमालय गिरि का राजा
लगता जैसे उच्च , स्वर्ग का यह दरवाजा
कहते रवि कविराय ,झील शोभा मन-हरती
पाकर परम प्रसन्न , व्योम मेघों को धरती
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
गिरि = पहाड़
व्योम = आकाश
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
"जिराफ"
Dr. Kishan tandon kranti
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
*Author प्रणय प्रभात*
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
Neelam Sharma
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
💝एक अबोध बालक💝
💝एक अबोध बालक💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
"वचन देती हूँ"
Ekta chitrangini
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिव्य काशी
दिव्य काशी
Pooja Singh
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
बालगीत - सर्दी आई
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!!! हार नहीं मान लेना है !!!
!!! हार नहीं मान लेना है !!!
जगदीश लववंशी
नेताजी (कविता)
नेताजी (कविता)
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
"श्रृंगार रस के दोहे"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
हर हक़ीक़त को
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
रंग बरसे
रंग बरसे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐Prodigy Love-38💐
💐Prodigy Love-38💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अगर जाना था उसको
अगर जाना था उसको
कवि दीपक बवेजा
Loading...