Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 1, 2022 · 1 min read

धरती की फरियाद

गर्मी आई,
सुखी धरती उगल रही है आग,
सुखी पड़ी धरती आज
रो-रो कर रही फरियाद।

मत काटो तुम पेड़ को,
उजड़ गया है मेरा सारा बाग।
नदी – नाले सब सुख रहे हैं,
सूरज बरसा रहा है आग।

गर्म हवा जला रही है तन को,
झुलसा रहा है गर्मी का ताप।
मेघ भी डरकर भाग गया है,
खेतों में पड़ गई है दरार ।

न सुनने को अब मिल रहा है,
प्रकृति का पहले वाला राग।
कल-कल करती नदियाँ भी,
सुस्त पड़ गई हैं आज।

ऐसा लग रहा है जैसे सबको,
डस रहा है गर्मी का नाग ।
पशु – पक्षी सब तड़प रहे,
कर रहे वो भी फरियाद।

मत काटो वन को आप,
बसेरा है हम सब का जनाब।
धरती का श्रंगार है वन ,
उजाड़ो नही तुम इसको यार।

~अनामिका

2 Likes · 92 Views
You may also like:
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
1971 में आरंभ हुई थी अनूठी त्रैमासिक पत्रिका "शिक्षा और...
Ravi Prakash
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
मौसम की पहली बारिश....
Dr. Alpa H. Amin
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H. Amin
मेरी हस्ती
Anamika Singh
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
Loading...