Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*

धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)
—————————————-
धन्य हैं चौपाइयॉं सब, अर्थ जिनके खास हैं
धन्य श्रेष्ठ प्रसंग जिनमें, राज तज वनवास हैं
लेखनी वह धन्य गाती, जो चरित श्री राम का
धन्य हैं कवि कुल शिरोमणि, धन्य तुलसी दास हैं
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 675 451

279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शाम सवेरे हे माँ, लेते हैं तेरा हम नाम
शाम सवेरे हे माँ, लेते हैं तेरा हम नाम
gurudeenverma198
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Mukesh Kumar Sonkar
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
मां के शब्द चित्र
मां के शब्द चित्र
Suryakant Dwivedi
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
Phool gufran
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Sakshi Tripathi
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
Shubham Anand Manmeet
प्यार भरी चांदनी रात
प्यार भरी चांदनी रात
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*प्रणय प्रभात*
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...