Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 2 min read

धनक की इन्द्रधनुषी शा’इरी

संकलनकर्ता: महावीर उत्तरांचली

(1.)
साथ रखता हूँ हमेशा तिरी यादों की धनक
मैं कभी ख़ुद को अकेला नहीं होने देता
—नासिर ज़ैदी

(2.)
हुस्न में उसके छुपा कुछ ख़ास है
बिजलियों की धनक का अहसास है
—रमेश प्रसून

(3.)
ज़मीं से आसमाँ तक फैल जाएँ
धनक में ख़्वाहिशों के रंग बिखरे
—महावीर उत्तरांचली

(4.)
किसी के मरमरीं आईने में नुमायाँ हैं
घटा बहार धनक चाँद फूल दीप कली
—शहज़ाद क़ैस

(5.)
सिंदूर उस की माँग में देता है यूँ बहार
जैसे धनक निकलती है अब्र-ए-सियाह में
—अरशद अली ख़ान क़लक़

(6.)
पर्दा शराब-ए-इश्क़ का मंसूर से खुला
नद्दाफ़ था कि पम्बा-ए-मीना धनक गया
—मिर्ज़ा मासिता बेग मुंतही

(7.)
नाम-ओ-नुमूद हफ़्त-जिहत सौंप कर मुझे
सूरज धनक में धूल बना देखता रहा
—अफ़ज़ाल नवेद

(8.)
जाने किस तरह ख़लाओं में धनक बनती है
चाँद की रंग भरी झील के उस पार हवा
—रफ़ीक़ ख़ावर जस्कानी

(9.)
धुआँ धनक हुआ अँगार फूल बनते गए
तुम्हारे हाथ भी क्या मोजज़े दिखाने लगे
—अख़्तर रज़ा सलीमी

(10.)
मह-रुख़ों की बज़्म में शिरकत नज़र आने लगी
और तसव्वुर में धनक के रंग लहराने लगे
—जमील उस्मान

(11.)
उसे ख़बर नहीं सूरज भी डूब जाता है
हसीं लिबास पे नाज़ाँ धनक बहुत है अभी
—अशफ़ाक़ अंजुम

(12.)
ये छटने वाले हैं बादल जो काले काले हैं
इसी फ़ज़ा में वो रौशन धनक निखरती है
—मख़मूर सईदी

(13.)
कहीं दूर साहिल पे उतरे धनक
कहीं नाव पर अम्न-बादल चले
—शाहिदा तबस्सुम

(14.)
नशात-ए-क़ुर्ब के लम्हों में उस की अंगड़ाई
उभर के ख़ाक-ए-बदन से धनक धनक जाए
—अकबर हमीदी

(15.)
सर-ए-निगाह भी ‘राशिद’ धनक धनक पैकर
पस-ए-सहाब भी इक चाँद चाँद साया है
—राशिद मुराद

(16.)
धनक धनक मिरी पोरों के ख़्वाब कर देगा
वो लम्स मेरे बदन को गुलाब कर देगा
—परवीन शाकिर

(17.)
मेरे चारों तरफ़ लबों की धनक
उस ने लगते ही अंग उड़ाई थी
—अफ़ज़ाल नवेद

(18.)
चाँद तारे शफ़क़ धनक आकाश
इन दरीचों को कुंजियाँ दे दो
—नासिर जौनपुरी

(19.)
थी धनक दूर आसमानों में
और हम थे शिकस्ता-पर बाबा
—हामिद सरोश

(20.)
चाँद तारे शफ़क़ धनक ख़ुशबू
सिलसिला ये उसी से मिलता है
—साबिर बद्र जाफ़री

(21.)
किसी हिज्र-शाल की धज्जियाँ मुझे सौंप कर वो कहाँ गया
वो धनक धनक से कता हुआ वो किरन किरन से बुना हुआ
—क़य्यूम ताहिर

(22.)
कभी ख़ूँ से रंगीं भी हो चश्म-ए-तर
धनक भी नज़र आए बरसात में
—जावेद शाहीन

(23.)
निगार-ए-गुल-बदन गुल-पैरहन है
धनक रक़्साँ चमन-अंदर-चमन है
—सिकंदर अली वज्द

(24.)
आईने रंगों के ख़ाली छोड़ जाएगी धनक
हैरतें रह जाएँगी मंज़र जुदा हो जाएगा
—रशीद कामिल

(25.)
हर एक मौज हो उठती जवानियों की धनक
बनूँ तो ऐसे समुंदर का मैं किनारा बनूँ
—फ़ारिग़ बुख़ारी

(26.)
सुना है बावजूद-ए-ज़ोर हम ने
धनक रावण से भी टूटी नहीं है
—मिस्दाक़ आज़मी

(साभार, संदर्भ: ‘कविताकोश’; ‘रेख़्ता’; ‘स्वर्गविभा’; ‘प्रतिलिपि’; ‘साहित्यकुंज’ आदि हिंदी वेबसाइट्स।)

1 Like · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
Dr MusafiR BaithA
पावस की ऐसी रैन सखी
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
मां का महत्त्व
मां का महत्त्व
Mangilal 713
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
वो अपने दर्द में उलझे रहे
वो अपने दर्द में उलझे रहे
Sonam Puneet Dubey
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खुश रहें, सकारात्मक रहें, जीवन की उन्नति के लिए रचनात्मक रहे
खुश रहें, सकारात्मक रहें, जीवन की उन्नति के लिए रचनात्मक रहे
PRADYUMNA AROTHIYA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सब तमाशा है ।
सब तमाशा है ।
Neelam Sharma
बकरा नदी अररिया में
बकरा नदी अररिया में
Dhirendra Singh
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
*घूॅंघट सिर से कब हटा, रहती इसकी ओट (कुंडलिया)*
*घूॅंघट सिर से कब हटा, रहती इसकी ओट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख़्याल रखें
ख़्याल रखें
Dr fauzia Naseem shad
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
सत्य कुमार प्रेमी
सफलता की फसल सींचने को
सफलता की फसल सींचने को
Sunil Maheshwari
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
★HAPPY BIRTHDAY SHIVANSH BHAI★
★HAPPY BIRTHDAY SHIVANSH BHAI★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
Loading...