Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

“दो हजार के नोट की व्यथा”

न किसी की आँख का नूर हूँ
न किसी के दिल का क़रार हूँ
जो किसी के काम न आ सके
मैं वो रूपया दो हज़ार हूँ ।

मेरा रंग-रूप बिगड़ गया
मेरा गाँधी मुझसे बिछड़ गया
जो तिजोरी में रह सड़ गया
मैं वो रूपया दो हज़ार हूँ ।

मुझे बटुए में ले के जाए क्यूँ
मुझे उधार ले के जाए क्यूँ
जिसे उठाईगिरे भी उठाए ना
मैं वो रूपया दो हज़ार हूँ ।

कभी ‘छुट्टा नहीं’ सुन के ख़ुश था
आज छुट्टी हुई तो हताश हूँ
जिसकी औक़ात सामने आ गई
मैं वो रूपया दो हज़ार हूँ ।

मेरा मान-मूल्य जो भी था
उसका दारोमदार कोई और था
इक हवा चली और जो ध्वस्त था
मैं वो रूपया दो हज़ार हूँ ।

कभी मुझे बहुत गुमान था
और आज मैं गुमनाम हूँ
कोई संगी साथी ना है मेरा
मैं वो रूपया दो हज़ार हूँ ।

संकलन. राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।

3 Likes · 2 Comments · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ ये हाल अरमान ए जिंदगी का
कुछ ये हाल अरमान ए जिंदगी का
शेखर सिंह
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
Ravi Prakash
बचपन
बचपन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
" देखा है "
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
हमने अपना भरम
हमने अपना भरम
Dr fauzia Naseem shad
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
संगीत
संगीत
Vedha Singh
#हास_परिहास
#हास_परिहास
*प्रणय प्रभात*
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धर्मराज
धर्मराज
Vijay Nagar
मां
मां
Dheerja Sharma
दुश्मनों से नहीं दोस्तों से ख़तरा है
दुश्मनों से नहीं दोस्तों से ख़तरा है
Manoj Mahato
जो कर्म किए तूने उनसे घबराया है।
जो कर्म किए तूने उनसे घबराया है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...