Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

दो शे’ र

सामने जब.. ख़ाली गिलास होता है ।
उस वक्त प्यास का अहसास होता है ।।

जब भी लेती है….. हवा बोसा मिरा ।
पास उनके होने का आभास होता है ।।

© डॉ वासिफ काज़ी, इंदौर
© काज़ी की कलम

Language: Hindi
Tag: शेर
278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
होली
होली
Manu Vashistha
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
■ बोलती तस्वीर
■ बोलती तस्वीर
*Author प्रणय प्रभात*
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कब तक यही कहे
कब तक यही कहे
मानक लाल मनु
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Shyam Sundar Subramanian
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
Surinder blackpen
राधा
राधा
Mamta Rani
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
राम
राम
Suraj Mehra
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
छोड़ कर तुम मुझे किधर जाओगे
छोड़ कर तुम मुझे किधर जाओगे
Anil chobisa
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
सत्य कुमार प्रेमी
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
नेताम आर सी
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
Loading...