Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*

दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )
————————–
दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए
( 1 )
रणक्षेत्र के बादल सदा से, विश्व पर छाते रहे
विस्तारवादी कामना से, शस्त्र नित आते रहे
कितने मरे असमय सिपाही, वीरगति को प्राप्त हो
रोने लगी हँसती गृहस्थी, आँसुओं से व्याप्त हो
यह विश्व एक कुटुंब जीवन,सार होना चाहिए
( 2 )
बूढ़ा हुआ तन किंतु मन की, वासना बढ़ती रही
भौतिक पदार्थों की अपावन, चाहना चढ़ती रही
इंसान का इंसान से, संबंध मैला हो गया
चोरी डकैती और हत्या, से विषैला हो गया
जितना दिया भगवान ने, आभार होना चाहिए
( 3 )
यह मृत्यु ईश्वर की व्यवस्था, श्रेष्ठ अति पावन रही
जेठ की गर्मी के जैसे, बाद ऋतु सावन रही
यह मृत्यु यदि होती नहीं, तो अधमरा रहता सदा
जन-वृद्ध रोगी मृत्यु की ही, प्रार्थना कहता सदा
वरदान जैसा मृत्यु का, सत्कार होना चाहिए
दो-चार दिन की जिंदगी में प्यार होना चाहिए
———————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर , उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
552 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
राम मंदिर
राम मंदिर
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
प्रथम दृष्ट्या प्यार
प्रथम दृष्ट्या प्यार
SURYA PRAKASH SHARMA
बाकई में मौहब्बत के गुनहगार हो गये हम ।
बाकई में मौहब्बत के गुनहगार हो गये हम ।
Phool gufran
जज्बात
जज्बात
अखिलेश 'अखिल'
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
Shweta Soni
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
भटकता पंछी !
भटकता पंछी !
Niharika Verma
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
Loading...