Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

दोहे

चैन अमन के फूल अब, चमन करें गुलजार,
मिलकर हम सब ही करें, हिंसा का प्रतिकार।

कविता से जागृत करें, हम ये सकल समाज,
अमन चैन सद्भाव के, दीप जलाएं आज।

खून डकैती से भरे, रोज यहाँ अखबार,
आतंकी सिर पर खड़े, अमन हुआ लाचार।

शांति दूत बनकर कभी, देता था सन्देश,
तरस रहा है अम्न को, मेरा भारत देश।

अमन चैन की बात अब, हुआ गूलरी फूल,
मानवता ज़ख़्मी हुई, कौन सुधारे भूल।

दीपशिखा सागर –

Language: Hindi
1 Like · 559 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
इन्तेहा हो गयी
इन्तेहा हो गयी
shabina. Naaz
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार अंधा होता है
प्यार अंधा होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*पापा (बाल कविता)*
*पापा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रेम में राग हो तो
प्रेम में राग हो तो
हिमांशु Kulshrestha
***
*** " हमारी इसरो शक्ति...! " ***
VEDANTA PATEL
💐Prodigy Love-39💐
💐Prodigy Love-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
चांद का पहरा
चांद का पहरा
Surinder blackpen
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
कवि रमेशराज
वो इक नदी सी
वो इक नदी सी
Kavita Chouhan
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
manjula chauhan
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
गुलाब
गुलाब
Prof Neelam Sangwan
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
अनुभव एक ताबीज है
अनुभव एक ताबीज है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
या'रब किसी इंसान को
या'रब किसी इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वायरस और संक्रमण के शिकार
वायरस और संक्रमण के शिकार
*Author प्रणय प्रभात*
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
संदेशा
संदेशा
manisha
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
"सोच अपनी अपनी"
Dr Meenu Poonia
Loading...