Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 18, 2016 · 1 min read

दोहे

चैन अमन के फूल अब, चमन करें गुलजार,
मिलकर हम सब ही करें, हिंसा का प्रतिकार।

कविता से जागृत करें, हम ये सकल समाज,
अमन चैन सद्भाव के, दीप जलाएं आज।

खून डकैती से भरे, रोज यहाँ अखबार,
आतंकी सिर पर खड़े, अमन हुआ लाचार।

शांति दूत बनकर कभी, देता था सन्देश,
तरस रहा है अम्न को, मेरा भारत देश।

अमन चैन की बात अब, हुआ गूलरी फूल,
मानवता ज़ख़्मी हुई, कौन सुधारे भूल।

दीपशिखा सागर –

1 Like · 286 Views
You may also like:
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
राम राज्य
Shriyansh Gupta
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक
Ranjeet Kumar
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
मानवता
Dr.sima
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
रुक क्यों जाता हैं
Taran Verma
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
Loading...