Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

दोहे

दोहे

हिन्दी भाषा

हिंदी भाषा मोहिनी, वर्ण माल चित चोर।
सरल सुलभ सी रागिनी, हस्त कलम की डोर।।

घोले हिंदी कान में,शहद मधुर रस धार।
शब्द -शब्द सी वारिणी, कोमल कंचन सार।।

हिंदी सुमधुर भाष है, मलय गंध सुख धाम।
पर हिय सुख की दायिनी, शीतल सुख वर दाम।।

भाषा निज मत त्यागिए, रखिए इसका मान।
गौरव इसका जानिए, यह भारत की शान।।

हिंदी दुर्लभ कोष है, वर्ण ग्रंथ की शान।
सरस सुधा सा ज्ञान है। अतुलित दिनकर भान।।

ललिता कश्यप जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
କୁଟୀର ଘର
କୁଟୀର ଘର
Otteri Selvakumar
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
पूर्वार्थ
2915.*पूर्णिका*
2915.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
Er. Sanjay Shrivastava
नवदुर्गा का महागौरी स्वरूप
नवदुर्गा का महागौरी स्वरूप
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* किसे बताएं *
* किसे बताएं *
surenderpal vaidya
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
*मनु-शतरूपा ने वर पाया (चौपाइयॉं)*
*मनु-शतरूपा ने वर पाया (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
!! दो अश्क़ !!
!! दो अश्क़ !!
Chunnu Lal Gupta
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
💐Prodigy Love-1💐
💐Prodigy Love-1💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...