Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

दोहे “हरियाली तीज”

“हरियाली तीज”

सावन के संग आ गई,बादल तेरी याद।
जम कर बरसों आज तुम,बढ़े तीज का स्वाद।।।
*
यादें झूला झूलतीं,पकड़ प्रेम की डोर।
हरियाली की तीज पर,भीतर भारी शोर।।
*
झूला झूलूं बाग में,झोटा दो तुम श्याम।
नाचो कूदो साथ में,छोड़ो सारे काम।।
*
धानी चूनर घागरा,चोली पहनी आज।
देख मेघ बौरा गए,धरती को ऋतुराज।।
*
हाथों में महंदी लगा,कर सोलह श्रृंगार।
शिवपूजन को गोरियां,पहुंचीं शिव के द्वार।।
*
डाल-डाल झूले पड़े,सखियां गाएं गीत।
तीजों का त्यौहार है,आ जाओ मन मीत।।
*
पायल झुमके चूड़ियां,ओढ़ चुनर तैयार।
नाचे गाएं बेटियां,हरियाली त्यौहार।।

वैशाली रस्तौगी
जकार्ता इंडोनेशिया

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 660 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
Help Each Other
Help Each Other
Dhriti Mishra
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
24/246. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/246. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
गीत
गीत
दुष्यन्त 'बाबा'
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
Shekhar Chandra Mitra
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
चुप्पी!
चुप्पी!
कविता झा ‘गीत’
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
अनिल "आदर्श"
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
मन की डोर
मन की डोर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"शहीद वीर नारायण सिंह"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
Loading...