Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

दोहे-मुट्ठी

हिंदी दोहा- विषय मुठ्ठी‌

मुठ्ठी में है संगठन , ताकत का प्रतिमान |
इसको #राना जानिए ,यह जीवन में भान ||

#राना मुठ्ठी बाँधकर , जहाँ उठाते लोग |
दिखे सफलता का वहाँ , सुंदर एक नियोग ||

हम सब मुठ्ठी बाँधकर , रहें जहाँ पर एक |
वहाँ काम #राना सभी , लगते हमें सुनेक ||

कुछ की मुट्ठी में फँसे , बुद्धि हीन जो लोग |
उनकी किस्मत में सदा , #राना रहते रोग ||

साहस के प्रतिमान से , मुठ्ठी भर भी‌ लोग |
काम बड़े अच्छे करें ,#राना पाकर ‌योग ||

मुठी बाँधें हैं धना , #राना सोचे राज |
आज हमें क्या मिल रहा , करने कोई काज ||
***
✍️ -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”,टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
मेरी बेटी मेरा अभिमान
मेरी बेटी मेरा अभिमान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*प्रणय प्रभात*
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
"एकान्त चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
Today's Reality: Is it true?
Today's Reality: Is it true?
पूर्वार्थ
ऐश ट्रे   ...
ऐश ट्रे ...
sushil sarna
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
अनुराग
अनुराग
Sanjay ' शून्य'
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
मेघों का इंतजार है
मेघों का इंतजार है
VINOD CHAUHAN
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
रुत चुनावी आई🙏
रुत चुनावी आई🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2890.*पूर्णिका*
2890.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
*दावत : आठ दोहे*
*दावत : आठ दोहे*
Ravi Prakash
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
लोगों को जगा दो
लोगों को जगा दो
Shekhar Chandra Mitra
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
DR Arun Kumar shastri
DR Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बहुत बार
बहुत बार
Shweta Soni
Loading...