Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

दोहे- चार क़दम

हिन्दी दोहा विषय- चार कदम

चार दिना की जिंदगी , चार कदम के खेल |
#राना अब सत्कर्म की ,जल्दी पकड़ो रेल ||

चार कदम #राना चलो , करो चार की खोज |
हो जाएगें सैकड़ों , स्वर्णिम होगा ओज ||

चार कदम अच्छे रहें , बन जाते सब काम |
चलते ही जब गिर पड़े , #राना तब बदनाम ||

चार कदम के आचरण , कर देते पहचान |
#राना भी अनुमान ले , यह कैसा इंसान ||

चार कदम चलते नहीं ,और न पकड़ें हाथ |
कहने के यह मित्र है, छोड़ो #राना साथ ||

अकल अजीरण भी सदा, #राना होते मित्र |
चार कदम चलते नहीं , बातें करें विचित्र ||

चार कदम कहकर हुई , #राना बहुत खरीद |
बोझा हम ही ढ़ोयगें , पत्नी को उम्मीद ||
***🙏😇 ***

दोहाकार ✍️ राजीव नामदेव “राना लिधौरी”
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
Shweta Soni
दिनाक़ 03/05/2024
दिनाक़ 03/05/2024
Satyaveer vaishnav
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
Ranjeet kumar patre
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
Shivkumar Bilagrami
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
"किसान"
Slok maurya "umang"
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"पता सही होता तो"
Dr. Kishan tandon kranti
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* ज़ालिम सनम *
* ज़ालिम सनम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मौज में आकर तू देता,
मौज में आकर तू देता,
Satish Srijan
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
अब हक़ीक़त
अब हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
Sanjay ' शून्य'
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
Johnny Ahmed 'क़ैस'
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
Loading...