Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

दोहा

दोहा
होता जिसके शीश पर,माँ का आशीर्वाद।
तोड़ नहीं पाते उसे ,चिन्ता और विषाद।।
डाॅ.बिपिन पाण्डेय

1 Like · 2 Comments · 496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dear myself,
Dear myself,
पूर्वार्थ
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
आंखें
आंखें
Ghanshyam Poddar
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
*प्रणय प्रभात*
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ सावन अब आ जाना
ऐ सावन अब आ जाना
Saraswati Bajpai
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
हो जाएँ नसीब बाहें
हो जाएँ नसीब बाहें
सिद्धार्थ गोरखपुरी
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
2578.पूर्णिका
2578.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
में स्वयं
में स्वयं
PRATIK JANGID
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
Loading...