Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

दोहा बिषय- महान

हिन्दी दोहा विषय – महान

#राना सभी महान हैं , और सभी गुणवान |
यदि रखते हो पास में , थोड़ा भी ईमान ||

परिभाषाएँ है नई , बनते सभी महान |
मालपुआ खाते मिलें , #राना बेईमान ||

दोष न #राना दे रहा , जो भी बने महान |
नहीं देश हित बेंचना , #राना हिंदुस्तान ||

खुद का डंका पीटते , लंका कहें महान |
शंका में खुद को रखें , #राना अब इंसान ||

सब महान को खोजते , #राना छोड़‌ जमीर |
दूजों का वह देखते , कितना बड़ा शरीर ||

एक हास्य दोहा

धना कहें #राना सुनो , मानें तुम्हें महान |
लाद पीठ पर लाइये , घर का कुछ सामान ||🙋
***
✍️ राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

2 Likes · 1 Comment · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
■ हुडक्चुल्लू ..
■ हुडक्चुल्लू ..
*प्रणय प्रभात*
अनुभूत सत्य .....
अनुभूत सत्य .....
विमला महरिया मौज
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
रुचि शर्मा
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
सोच...….🤔
सोच...….🤔
Vivek Sharma Visha
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
Shweta Soni
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
पूर्वार्थ
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
2974.*पूर्णिका*
2974.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
kumar Deepak "Mani"
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रूह की चाहत🙏
रूह की चाहत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
Ravi Prakash
मौन की सरहद
मौन की सरहद
Dr. Kishan tandon kranti
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
Lokesh Sharma
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
लड़खड़ाते है कदम
लड़खड़ाते है कदम
SHAMA PARVEEN
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
Loading...