Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2023 · 2 min read

दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार

दोस्ती एक ऐसा छोटा सा शब्द है लेकिन इस शब्द की ताकत का पता तब होता है जब दोस्त का साथ मिलता है दोस्त साथ हैं तो कोई भी पूरी दुनिया के साथ टकरा जाता है।

ऐसे कई उदाहरण है दोस्ती के साथ, साथ होने मात्र से लड़ने का कुछ कर दिखाने का हौसला मिलता है।

१ महाभारत में दुर्योधन व कर्ण की दोस्ती का संयोग ऐसा था की धर्म – अधर्म की चिन्ता ना करते हुए अपनी जान की परवाह किये भगवान से भी युद्ध करने को सजय हो गये।

२ आजादी के लिए भगत सिंह ने अपने दोस्तों के साथ होने पर फासी के फंदे को भी हँस्ते – हँस्ते चूम लिया था।

ऐसे बहुत से उदाहरण है जिस से दोस्ती का आभास मात्र से अपने मन मस्तिक मे एक अलौकिक शान्ति उत्पन्न होती हैं दोस्त के सामने अपने दिल की बात कहने से जो शान्ति प्राप्त होती हैं उसे शब्दों में कहना मुश्किल है।

दोस्ती आभास है, दोस्ती विश्वास है, दोस्ती आस है, दोस्ती दिल के पास है, चेहरे पर मुस्कान है दोस्ती, स्वाभिमान व अभिमान है दोस्ती

मे ऐसे ही अपने दोस्ती का किस्सा सुनता हूँ
अपने सभी दोस्तों का आभार प्रकट करता हूँ
कुछ सालों पहले बीता अपना किस्सा सुनाता हूँ
जीवन की शुरुआत मे दोस्ती का साथ सुनाता हूँ
मेरे जीवन की घडी थी, दिल्ली की वो पतली गली थी
पैसों की कमी थी, माफ करिये! यू कहू की पैसे थे ही नहीं थे
घर से 1500 रु. लाया था, पर यहाँ 2500 तो फीस पाया था
दोस्तों ने संयोग दिया था, मै पूरे तीन महीनें दिल्ली मे रहा था
कोर्स पूरा किया था, दोस्त तुझसे उम्मीद से ज्यादा मुझे मिला था
आज जो हूँ, मे तुमसे ही हूँ, दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार

अनिल चौबिसा
9829246588

3 Likes · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
"जिसे जो आएगा, वो ही करेगा।
*Author प्रणय प्रभात*
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
सोच और हम
सोच और हम
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Shweta Soni
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
Phool gufran
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
आदि शंकराचार्य
आदि शंकराचार्य
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
sushil sarna
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मौज में आकर तू देता,
मौज में आकर तू देता,
Satish Srijan
Loading...