Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2017 · 1 min read

दोस्त ग़म-ख़्वारी में मेरी सई फ़रमावेंगे क्या

दोस्त ग़म-ख़्वारी में मेरी सई फ़रमावेंगे क्या
ज़ख़्म के भरते तलक नाख़ुन न बढ़ जावेंगे क्या

बे-नियाज़ी हद से गुज़री बंदा-परवर कब तलक
हम कहेंगे हाल-ए-दिल और आप फ़रमावेंगे क्या

हज़रत-ए-नासेह गर आवें दीदा ओ दिल फ़र्श-ए-राह
कोई मुझ को ये तो समझा दो कि समझावेंगे क्या

आज वाँ तेग़ ओ कफ़न बाँधे हुए जाता हूँ मैं
उज़्र मेरे क़त्ल करने में वो अब लावेंगे क्या

गर किया नासेह ने हम को क़ैद अच्छा यूँ सही
ये जुनून-ए-इश्क के अंदाज़ छुट जावेंगे क्या

ख़ाना-ज़ाद-ए-ज़ुल्फ़ हैं ज़ंजीर से भागेंगे क्यूँ
हैं गिरफ़्तार-ए-वफ़ा ज़िंदाँ से घबरावेंगे क्या

है अब इस मामूरे में क़हत-ए-ग़म-ए-उल्फ़त असद
हम ने ये माना कि दिल्ली में रहें खावेंगे क्या

345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
कविता
कविता
Rambali Mishra
इस तरह बदल गया मेरा विचार
इस तरह बदल गया मेरा विचार
gurudeenverma198
"मिट्टी की उल्फत में"
Dr. Kishan tandon kranti
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी का नशा
ज़िंदगी का नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
Who is the boss
Who is the boss
AJAY AMITABH SUMAN
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
सत्य कुमार प्रेमी
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
2750. *पूर्णिका*
2750. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐Prodigy Love-17💐
💐Prodigy Love-17💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
Dr Archana Gupta
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई फाक़ो से मर गया होगा
कोई फाक़ो से मर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
#अभिनंदन
#अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
गौमाता को पूजिए, गौ का रखिए ध्यान (कुंडलिया)
गौमाता को पूजिए, गौ का रखिए ध्यान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...