Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

“दोस्ती”

“दोस्ती”
दोस्ती करो निभाने के लिए,
दुश्मनी करो कुछ पाने के लिए।
दर्द को भी कुछ पल आराम दो,
सही ठिकाने लगाने के लिए।
कुछ दुश्मन भी तो रहे यारों,
दिल को दिल बनाने के लिए।
सच्ची दोस्ती वही निभाते ‘किशन’,
कई दुश्मन हों जिसे निपटाने के लिए।

6 Likes · 4 Comments · 409 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2493.पूर्णिका
2493.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दर्द देह व्यापार का
दर्द देह व्यापार का
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ुद ब ख़ुद
ख़ुद ब ख़ुद
Dr. Rajeev Jain
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
कृष्णकांत गुर्जर
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
Phool gufran
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
पूर्वार्थ
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
Buddha Prakash
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
कवि रमेशराज
Loading...