Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।

दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
खेल है जिवन, पहले हर दाव को समजे।।

अनिल चौबिसा
9829246588

Language: Hindi
271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आप सच बताइयेगा
आप सच बताइयेगा
शेखर सिंह
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
*Author प्रणय प्रभात*
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-514💐
💐प्रेम कौतुक-514💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
shabina. Naaz
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
भारत मां की पुकार
भारत मां की पुकार
Shriyansh Gupta
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
Loading...