Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

दोपहर बनकर अक्सर न आया करो

दोपहर बनकर अक्सर न आया करो।

सुबह-शाम भी कभी बन जाया करो।।

चिलचिलाती धूप में तपना है ज़रूरी।

कभी शीतल चाँदनी में भी नहाया करो।।

सुबकता है दिल यादों के लम्बे सफ़र में।

कभी ढलते आँसू रोकने आ जाया करो।।

बदलती है पल-पल चंचल ज़िन्दगानी ।

हमें भी दुःख-सुख में अपने बुलाया करो।।

दरिया का पानी हो जाय न मटमैला।

धारा में झाड़न दुखों की न बहाया करो।।

– रवीन्द्र सिंह यादव

Language: Hindi
422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
कौशल्या नंदन
कौशल्या नंदन
Sonam Puneet Dubey
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
sushil sarna
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
Ravi Prakash
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
Stages Of Love
Stages Of Love
Vedha Singh
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
Loading...