Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

देश हमारा

देश हमारा

प्यारा भारत देश हमारा
सबसे प्यारा सबसे न्यारा.
वन्दे मातरम राष्ट्रगीत
जनगन राष्ट्रगान हमारा.

तीन रंगों का ध्वज हमारा
केसरिया, श्वेत और हरा.
केसरिया त्याग, श्वेत शान्ति का
समृद्धि का प्रतीक है हरा.

प्यारा भारत देश हमारा
सबसे प्यारा सबसे न्यारा.
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई
रहते यहाँ जैसे भाई-भाई.

विविध संस्कृतियों का सम्मिलन
दिखता जिनमें अजब अपनापन.
माँ के आँचल सामान
हम सबको है ये प्यारा.

इसकी धरा पर तो हमारा
तन-मन-धन न्योछावर सारा.
हरा-भरा है इसकी धरा
दिखे अद्भुत, अनुपम नजारा.

प्यारा भारत देश हमारा
सबसे प्यारा सबसे न्यारा.

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
*नारी है अर्धांगिनी, नारी मातृ-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अर्धांगिनी, नारी मातृ-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
उमर भर की जुदाई
उमर भर की जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
Attraction
Attraction
Vedha Singh
राम की मंत्री परिषद
राम की मंत्री परिषद
Shashi Mahajan
इन हवाओं को महफूज़ रखना, यूं नाराज़ रहती है,
इन हवाओं को महफूज़ रखना, यूं नाराज़ रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हमने उसको देखा, नजरों ने कुछ और देखा,,
हमने उसको देखा, नजरों ने कुछ और देखा,,
SPK Sachin Lodhi
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गुप्तरत्न
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
आज नदी... क्यों इतना उदास है.....?
आज नदी... क्यों इतना उदास है.....?
VEDANTA PATEL
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*प्रणय प्रभात*
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
Phool gufran
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
आंखों की गहराई को समझ नहीं सकते,
आंखों की गहराई को समझ नहीं सकते,
Slok maurya "umang"
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
3337.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3337.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
आओ लौट चले
आओ लौट चले
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...