Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2023 · 1 min read

देश हमारा भारत प्यारा

देश हमारा भारत प्यारा
सब देशों से न्यारा है
🇮🇳🌿🇮🇳🌿🇮🇳🌿

ऋषि मुनि विदुषियों ने संवारा है
बहती गंगा की जीवन धारा है ॥

पर्वतराज हिमालय पहरेदार
अड़िग अटल खड़ा उत्तर में

दुश्मन से आंख मिलाता है
पूरब पश्चिम उत्तर दक्षिण में

विविध भेष भूषा आहार विहार
संस्कृति परंपरा का अंबार पड़ा

भारत जन जन का प्यारा देश
न्यारा सर्व धर्मों का वसेरा है

गंगा यमुना सरस्वती गंगोत्री
की पावन उद्‌गम किनारा है

हरिद्वार हरकी पोड़ी ऋषिकेश
वेमिशाल नद्य गंगा का रूप है

जहाँ अतीत से बज रही घंटी
घण्टा सरगम कलकल धारा है

खेतों में हरियाली बसती जहाँ
कृषक जन आहार उपजाता है

वही महान भारत देश हमारा है
अतिथी की सेवा देवी देवों की

पूजा भाव विस्तृत नभ हमारा है
जन भूखा सोता नहीं कभी यहां

थाली औरों की खाली रहतीनहीं
गुड़ बताशा घर का मीठा पानी

पाणि से पिला सम्मान होता है
संस्कृति नीति सर्वधर्म सम्मान

समारोह एक साथ मिल मनाता
सुख दुख के साथी सभी एकता

विकास परिवर्तन का सहारा है
परिश्रम कर्म सत्य आदर्श भाव

सत्कार परोपकार सेवा जन गण
भारत माता के वीरो की गाथा
वंदे मातरम !वंदे मातरम !नारा है

शांति संदेश बिखर रहीं जहाँ
प्यारा देश भारत हमारा है

🌿💙🌿🇳🇪🌿💙🌿🙏🙏🌿✍️🌿🌿🌿🇮🇳

कविवरः-
तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
2 Likes · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
विश्वगुरु
विश्वगुरु
Shekhar Chandra Mitra
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
#हमारे_सरोकार
#हमारे_सरोकार
*प्रणय प्रभात*
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
*किले में योगाभ्यास*
*किले में योगाभ्यास*
Ravi Prakash
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
"रिश्तों का विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
Sahil Ahmad
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
Loading...