Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।

गज़ल- 3

देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से ही हम, हमारी देश से पहचान है।।

देश के प्रति प्रेम का अंकुर अगर फूटा नहीं,
वो हृदय बंजर समझ लो या कि कब्रिस्तान है।

विश्व में जाकर के देखो जलवा अपने देश का,
देश के ही नाम से मिलता बड़ा सम्मान है।

घास की रोटी भी खाकर वीर जीते शान से,
गैर देशों का उन्हें फीका लगे पकवान है।

देश ‘प्रेमी’ के लिए क्या जाति मजहब मायने,
खून के कण कण में जिसके सिर्फ़ हिंदुस्तान है।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
Dinesh Kumar Gangwar
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
gurudeenverma198
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
2988.*पूर्णिका*
2988.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*किसी कार्य में हाथ लगाना (हास्य व्यंग्य)*
*किसी कार्य में हाथ लगाना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
खुशी(👇)
खुशी(👇)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीता जग सारा मैंने
जीता जग सारा मैंने
Suryakant Dwivedi
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
पूर्वार्थ
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
हे ! अम्बुज राज (कविता)
हे ! अम्बुज राज (कविता)
Indu Singh
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
Loading...