Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2016 · 1 min read

देश भक्ति अब दिलों में झिलमिलाना चाहिए।

*गीतिका*
देश में दीपक स्वदेशी जगमगाना चाहिए।
लोभ से बचकर हमें यह पद उठाना चाहिए।

और कितना सोए’गी आत्मा तुम्हारी रात भर।
देश के लोगो तुम्हें अब जाग जाना चाहिए।

फौज की ताकत बढाता चीन हमको लूटकर।
त्यागकर उत्पाद उसके फन दबाना चाहिए।

घिर रही आतंक की काली घटा जब बाहरी।
बंद हमको जंग भीतर की कराना चाहिए।

रोटियां निज सेंकते हैं ये सभी नेता यहाँ।
अब हमें ही कुछ नया करतब दिखाना चाहिए।

क्या रखा मतभेद में बस शांति सुख खोता सदा।
हर परिस्थिति में हमें अब सँग निभाना चाहिए।

गूंजती हैं रोज कानों में नयी नित धमकियाँ।
सुन इन्हें अब तो लहू में जोश आना चाहिए।

घोंटते अपमान से जो भी गला निज देश का।
डूब मर लें या इन्हें सिर खुद कटाना चाहिए।

सोच क्यों अब तंज ‘इषुप्रिय’ नागरिक की हो रही।
सोच में तो भक्ति देशी झिलमिलाना चाहिए।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

1 Like · 334 Views
You may also like:
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
पिता
Arvind trivedi
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
सेमल
लक्ष्मी सिंह
एक बर्बाद शायर
Shekhar Chandra Mitra
तोरी ढिल्या देहें चाल ( बुन्देली ,लोक गीत)
कृष्णकांत गुर्जर
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
राजीव था नाम जिसका ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री राजीव...
ओनिका सेतिया 'अनु '
# कभी कांटा , कभी गुलाब ......
Chinta netam " मन "
बदला
शिव प्रताप लोधी
वक्त सबको देता है मौका
Anamika Singh
सलाम
Shriyansh Gupta
चुनाव आते ही....?
Dushyant Kumar
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
आओ हम पेड़ लगाए, हरियाली के गीत गाए
जगदीश लववंशी
दर्शन शास्त्र के ज्ञाता, अतीत के महापुरुष
Mahender Singh Hans
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
दो पँक्ति दिल से
N.ksahu0007@writer
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️कमाल था...
'अशांत' शेखर
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
'हे सबले!'
Godambari Negi
Loading...