Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2023 · 1 min read

देश और देशभक्ति

सदियों से भारत का नक्शा क्यों,धीरे धीरे सिमट रहा है।
क्योंकि देश का हर एक बन्दा यहां अपनों को दुश्मन समझ रहा है।।
मुट्ठी भर अंग्रेजों ने आकर देश में भाई को भाई से खूब लड़ाया।
एक राजा के भरे कान और उसको दूसरों के खिलाफ भड़काया।।
इसी तरह मुगलों ने देश की रियासत प्रथा का फायदा उठाया।
एक रियासत के राजा से मिलकर दूजी रियासत के राजा का सिर कटवाया।।
जैसे तैसे सरदार पटेल ने सबको एक माला का मोती बनाया।
तब कहीं जाकर एक हुए सब,और देश पर भारतीय तिरंगा फहराया।।
इस तिरंगे को अपनाने की खातिर हमने अपना एक बाजू कटवाया।
नेहरू गाँधी फिर भी नहीं समझे,और आस्तीन के कुछ सांपों को यहीं बसाया।।
तीन पीढ़ियों से एक परिवार ने क्यों इन सांपों को दूध पिलाया।
बाकी बचे हुए सब लोगों को जाती धर्म की दलदल में फंसाया।।
आज भी हम इस जात पात के खेल को क्योंकर समझना नहीं चाहते हैं।
और क्यों मंदिर मस्जिद के खेल में खुद को उलझा हुआ पाते हैं।
उठो और जागो तुम अब तुमको आखरी मौका है मिलने का।
अब नहीं खिला तो फिर इस देश में कमल दुबारा नहीं खिलने का।।
कहे विजय बिजनौरी सबसे खुद भी जागो और सबको जगाओ।
खुद की विरासत को है बचाना तो, देशभक्ति का सबको पाठ पढ़ाओ।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
4 Likes · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
Oh, what to do?
Oh, what to do?
Natasha Stephen
"बदल रही है औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
"सच कहूं _ मानोगे __ मुझे प्यार है उनसे,
Rajesh vyas
आज
आज
*Author प्रणय प्रभात*
12 fail ..👇
12 fail ..👇
Shubham Pandey (S P)
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
खत
खत
Punam Pande
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
17 जून 2019 को प्रथम वर्षगांठ पर रिया को हार्दिक बधाई
17 जून 2019 को प्रथम वर्षगांठ पर रिया को हार्दिक बधाई
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हरित - वसुंधरा।
हरित - वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
21)”होली पर्व”
21)”होली पर्व”
Sapna Arora
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
अनिल "आदर्श"
Loading...