Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

देशभक्ति

देशभक्ति

“ये लो गरीबी में आटा गीला। ऐसे ही क्या कम खर्चे हैं, जो अब एक दिन की सेलरी और गई।” अखबार पढ़ते हुए संतराम जी बोल पड़े।
“क्यों क्या हुआ ?” श्रीमती जी ने आश्चर्य से पूछा।
“अखबार में छपी खबर के मुताबिक मैनेजमेंट ने डिसीजन लिया है कि अगले महीने सभी कर्मचारियों की सेलरी में से एक-एक दिन की राशि पुलवामा हमले में शहीदों की मदद के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष के लिए भेजी जाएगी।” वह निश्वास छोड़ते हुए बोला।
“इसमें इतना उदास होने की क्या बात है जी। वे सैनिक हमारे लिए अपना जीवन कुर्बान कर सकते हैं, तो क्या हम अपनी एक दिन की सेलरी भी उनके नाम नहीं कर सकते ?” पत्नी ने उनके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा।
वह कुछ कहता, उससे पहले ही उनकी बारह वर्षीया बेटी अपना गुल्लक उन्हें थमाते हुए बोली, “पापा, इसमें जमा राशि भी आप प्रधानमंत्री राहत कोश में जमा करवा दीजिएगा। मैंने पुलवामा में शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए निर्णय लिया है कि अगले महीने मैं आपसे पॉकिटमनी नहीं लूँगी। आप निश्चिंत होकर अपनी एक दिन की सेलरी डोनेट कर सकते हैं।”
उसने अपनी पत्नी और बिटिया को बाँहों में भर लिया। आज उसे उन पर गर्व महसूस हो रहा था।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
💐अज्ञात के प्रति-6💐
💐अज्ञात के प्रति-6💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
उठ जाओ भोर हुई...
उठ जाओ भोर हुई...
जगदीश लववंशी
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
*पर्वतों की इसलिए, महिमा बहुत भारी हुई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*पर्वतों की इसलिए, महिमा बहुत भारी हुई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
तेरी तसवीर को आज शाम,
तेरी तसवीर को आज शाम,
Nitin
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"रस्सी"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
Manoj Mahato
2652.पूर्णिका
2652.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मित्रतापूर्ण कीजिए,
मित्रतापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
Buddha Prakash
"अपेक्षा का ऊंचा पहाड़
*Author प्रणय प्रभात*
नशा
नशा
Mamta Rani
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
गृहस्थ के राम
गृहस्थ के राम
Sanjay ' शून्य'
“Mistake”
“Mistake”
पूर्वार्थ
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
सत्य कुमार प्रेमी
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ  लोग घंटों  घंटों राम, कृष्ण
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ लोग घंटों घंटों राम, कृष्ण
ruby kumari
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...