Sep 21, 2016 · 1 min read

देशगान

हर दिन उठाएँ ये क़सम,
भारत के दिलो जान हम।
यह दिलो जान से प्यारा,
इसके तो दिलो जान हम।।
ये महकता गुलशन रहा,
महकता गुलशन रहेगा,
बद नज़र डाले न कोई,
भारत के निगहबान हम।।
अव्वल हर बाज़ी में हम,
जीतें हम हर एक खेल ,
करें हम औरों की क़दर,
भारत के क़दरदान हम।।
ऊँचा और ऊँचा रहेगा,
हमारे हिमालय का सिर,
रक्षक रहा हिमालय सदा,
हिमालय पर कुरबान हम।।
क्यों ख़ास मौके पे सभी,
गाते हिलमिल देश-गान,
गायन करेंगे रोज़ अब ,
अपना ये देशगान हम ।।

250 Views
You may also like:
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Buddha Prakash
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
हसद
Alok Saxena
कहानियां
Alok Saxena
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H.
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...