Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

*****देव प्रबोधिनी*****

चिरनिद्रा से नारायण जागे
शुभ पावन घड़ियाँ ले आई
तुलसी शालीग्राम संग आये
गगन में ज्योत्सना दिखलाई।

आँवला, गन्ना,बोर भाजी
खोल बंधन शुभ महुर्त सारे
आई आज देव प्रबोधिनी
जल उठे आज दीप हर द्वारे।

ढोल,मजीरे,ताशे बज रहे
पुष्प,बंदनवार आज सज रहे
थमें हुये थे शुभ काज सारे
ले अवतार जगदीश पधारे।

सुख,समृद्धि आरोग्य बना
है गेंदा,गुलाब सुंदर सजा
घर आँगन रंगोली सजाना
प्रभु का शुभ आशीष पाना।

✍️”कविता चौहान
स्वरचित एवं मौलिक

152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*जीवन में प्रभु दीजिए, नया सदा उत्साह (सात दोहे)*
*जीवन में प्रभु दीजिए, नया सदा उत्साह (सात दोहे)*
Ravi Prakash
HAPPY CHILDREN'S DAY!!
HAPPY CHILDREN'S DAY!!
Srishty Bansal
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
♤ ⛳ मातृभाषा हिन्दी हो ⛳ ♤
♤ ⛳ मातृभाषा हिन्दी हो ⛳ ♤
Surya Barman
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
तुम जो हमको छोड़ चले,
तुम जो हमको छोड़ चले,
कृष्णकांत गुर्जर
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक शख्स
एक शख्स
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
#आलेख
#आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
ये वादियां
ये वादियां
Surinder blackpen
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
गाओ शुभ मंगल गीत
गाओ शुभ मंगल गीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
एक चिंगारी ही काफी है शहर को जलाने के लिए
कवि दीपक बवेजा
प्रेम
प्रेम
Dr. Shailendra Kumar Gupta
* पहचान की *
* पहचान की *
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सफर कितना है लंबा
सफर कितना है लंबा
Atul "Krishn"
आत्मा शरीर और मन
आत्मा शरीर और मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...