Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 5 min read

“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
===================
01 ,मई 2011 भोरे -भोरे हमर मोबाईल बाजि उठल ! हम उठेलहूँ त हमर पुत्री आभा छलीह ! गप्प भेल ! कुशल समाचार सँ अवगत भेलहूँ ! एहि क्रम मे आभा बजलीह , –
“ बाबू जी ,हमसब प्लान बनेने छी जे चारिधामक यात्रा पर चलि ! हमसब अपन गाड़ी सँ भोरे 05 बजे दिनांक 28 मई 2011 केँ रोहिणी ,नयी दिल्ली सँ चारों धाम क यात्रा पर चलब ! हम चारि गोटें आ आहाँ दूनू हमरा संग चलब ! दिल्ली क लेल आहाँ सब दुमका सँ आरक्षण करबा लिय अन्यथा कोनो दिक्कत हेत त एतय सँ हम करबा देब !”
इ सुअवसर केँ भला कहू के छोड़त ? हम अपन सहमति देत कहलियनि ,—-
“ नऽ….नऽ एहिठाम सँ दिल्ली क लेल आराम सँ आरक्षण भऽ जेतैक !”
दिल्ली सँ हरिद्वार
==============
24 मई 2011 केँ हम दूनू नयी दिल्ली पहुँचि गेलहूँ ! तैयारी प्रारंभ भ’ गेल ! 28 मई 2011 केँ हमरालोकनि केँ चलबाक छल ! पहाड़ी क्षेत्र आ ऊँचाई पर चढ़बाक लेल गर्म कपड़ा आ आवश्यक बस्तु क इंतजाम क लेलहूँ ! ठीक 5 बजे ड्राइवर सरदार हरपाल सिंह INOVA CAR मे बैसा केँ हरिद्वार चलि पड़ल ! सब सँ श्रेष्ठ हमर समधि श्री कृष्ण कान्त झा छलाह ! वो आगाँ बैसि गेलाह ! हम दूनू सेकेंड सीट पर संग मे हमर दोहित्र स्रोत झा, जे मात्र 7 वरख छलाह ,वो हमरे संगे बैसि गेलाह ! रीयर सीट पर हमर जमाय श्री राहुल झा आ हमर पुत्री आभा बैसि गेलीह !
हरिद्वार सँ बरकोट
=============
28 मई 2011 केँ हमरा लोकनि हरिद्वार पहुँचि गेलहूँ ! गंगा स्नान हरकि पौड़ी मे केलहूँ ! 230 किलोमीटर क यात्रा क पश्चात HOTEL PARKVIEW मे एक राति रुकलहूँ ! संध्या समय हरकि पौड़ी मे गंगा- आरती देखबा क अवसर भेटल ! 29 मई प्रातः 6 बजे हरपाल अपन कार मे हमरा लोकनि केँ ल चलल बरकोट क दिसँ ! बरकोट 220 किलोमीटर छल ! देहरादून ,मसूरी आ केंपटी फाल क दर्शन क बाद बरकोट क HOTEL CHAUHAN ANNEXE मे रुकहूँ ! अद्भुत पर्वतीय दृश्य क अवलोकन केलहूँ !
बरकोट सँ यमुनोत्री आ पुनः वापसि
=====================
30 मई 2011 भोरे सब तैयारी क’ केँ पहिल तीर्थ यात्रा प्रारंभ भ गेल ! ओना यमुनोत्री क सफर 36 किलोमीटर क छल आ पहाड़ी ट्रेक एनाय -गेनाय मिला केँ 12 किलोमीटर ! अद्भुत आ रोमांचक पर्वतीय सफर छल ! लागि रहल छल साक्षात स्वर्ग क दर्शन भ रहल अछि ! हरपाल टेप रीकॉर्डर सँ गुरुवाणी सुनैत जा रहल छल ! हमरो सब आनंद उठा रहल छलहूँ ! जानकीचट्टी पर हम सब उतरि गेलहूँ ! हम त अपना लेल खच्चर लेलहूँ आ कृष्णकान्त बाबू सहो एकटा खच्चर लेलनि ! आ राहुल जी ,आभा ,आशा आ स्रोत पैरे ओहि ठाम पहुँचलाह ! पूजा अर्चना आ गर्म कुंड मे स्नान करि पुनः वापस बरकोट आबि गेलहूँ !
बरकोट सँ हरसिल
============
31 मई 2011 केँ हमसब अद्भुत प्रकृति छटा आ सुंदर दृश्य हरसिल मे देखलहूँ ! हरसिल उत्तराखंड क भगरथी गंगा क 2620 मीटर समुद्रतल क सतह सँ ऊपर स्थित छल ! हरसिल क सौदर्य क आनंद लेलहूँ आ ओहि ठामक सुंदर SHIVALIK HOTEL मे एक राति बितैलहूँ !
हरसिल सँ गंगोत्री आ वापस उत्तरकाशी
==========================
01 जून 2011 केँ भोरे हमसब हरसिल सँ चलि पड़लहूँ गंगोत्री क दिसँ ! गंगोत्री मात्र 72 किलोमीटर छल ! गंगोत्री मंदिर जे भागीरथी गंगा क कात मे छल ! पूजा अर्चना केलहूँ आ वापस उत्तरकाशी लंबा यात्रा क पश्चात HOTEL SHIVLINGA मे राति बितैलहूँ !
उत्तरकाशी सँ गुप्तकाशी
================
02 जून 2011 केँ हमसब गुप्तकाशी क दिसँ निकलि पड़लहूँ ! इ यात्रा 220 किलोमीटर क छल परंच एतुका प्राकृतिक दृश्य क सौन्दर्य देखि केँ शरीरक सम्पूर्ण ठेही बुझु बिला गेल ! भरि रास्ता हमरा लोकनि खूब मनोरंजन केलहूँ ! मुदा धारसू क मार्ग मे भूस्खलन भ गेल रहय ! हमर कार कुछु घंटा लेल वाधित भ गेल छल ! कुछु देर क बाद सब ठीक भ गेल आ देखैत -देखैत हमसब गुप्तकाशी पहुँचि गेलहूँ ! एतय होटल नहिं स्नो टेंट लगा केँ अद्भुत होटल बनाओल गेल छल जकरा VIP NIRWANA CAMP नाम सँ लोक जनैत छल ! स्वर्गलोक लागि रहल छल ! हमरा लोकनि तीनटा टेंट ल लेने छलहूँ !
गुप्तकाशी सँ केदार नाथ
==================
03 जून 2011 केँ भोरे CAMP सँ विदा भ निकलि पड़लहूँ ! ओना गुप्तकाशी सँ केदारनाथ क गौरी कुंड 30 किलोमीटर अछि ! फेर गौरीकुंड सँ पैरे खड़ी चड़ाई 14 किलोमीटर चलय पड़ैत अछि ! केदारनाथ 3584 मीटर समुद्रतल सँ ऊपर अछि ! एहिठाम ऑक्सीजन क कमी छैक ! राहुल जी आ हमर पुत्री पैरे केदारनाथ पहुंचलिह ! आशा डोली पर चढ़ि केँ गेलीह ! हम तीनू हेलिकोपटर सँ केदार नाथ पहुँचलहूँ ! पूजा अर्चना हमसब केलहूँ ! राति HOTEL GAYATRI BHAVAN मे ठहरबा क इंतजाम छल ! केदारनाथ 12 ज्योतिर्लिंग मे सँ एक छथि !
केदारनाथ सँ रुद्रप्रयाग
================
04 जून 2011 केँ जहिना केदार नाथ पहुँचल छलहूँ तहिना वापस नीचा आबि फेर गुप्तकाशी होइत हमसब रुद्रप्रयाग क दिसँ चलि पड़लहूँ ! मंदाकिनी आ अलकनंदा नदी क कात मे रुद्रप्रयाग बसल अछि ! ओहि ठामक MONAL RESORT मे रहनाय बुझु मन आनंदित भ गेल !
रुद्रप्रयाग सँ बद्रीनाथ
================
05 जून 2011 केँ हमसब 165 किलोमीटर यात्रा क केँ बद्रीनाथ पहुँचलहूँ ! इ 3133 मीटर समुद्रतल सँ ऊपर अछि आ नर- नारायण पर्वत क शृंखला बद्रीनाथ धाम क प्रहरी बनल अछि ! हमसब HOTEL NARAYAN PALACE मे ठहरलहूँ ! पूजा- अर्चना हमरा लोकनि केलहूँ ! दोसर दिन भोरे -भोरे हमसब MANA VILLAGE क दर्शन केलहूँ ! इ भारतक अंतिम गाँव अछि ! एकरा बाद चीन !
बद्रीनाथ सँ जोशीमठ /पिपलकोटी
=======================
06 जून 2011 भोरे हमर सबारी चलि पड़ल जोशीमठ ! अद्भुत दृश्य ,पहाड़ सँ घिरल आ महापुरुष क मठ सब तरि पसरल छल ! ठामे -ठामे आर्मी कैम्प ,शहर ,बाजार लागल छल ! ठीक 85 किलोमीटर पर पिपलकोटी मे HOTEL LE MEADOWS मे ठहरबा क छल ! जोशीमठ मे सब सुविधा उपलब्ध छल ! प्रत्येक स्थान क लेल बस सर्विस क बंदोबस्त छल !
पिपलकोटी सँ ऋषिकेश
=================
07 जून 2011 केँ ऋषिकेश आबय क छल ! इ यात्रा 8 घंटा क छल ! ड्राइवर हरपाल सिंह एकटा कुशल वाहान चालक सिद्ध भेल ! वो श्रीनगर आ देवप्रयाग क बीच मे हमरा लोकनि केँ गुरुद्वारा ल गेल ! ओतय गुरुग्रंथ साहिब क दर्शन केलहूँ आ लंगर क प्रसाद ग्रहण केलहूँ ! ऋषिकेश मे सहो 5 स्टार HOTEL NARAYANA क इंतजाम छल ! श्रोत आ राहुलजी त स्विमिंग पूल क भरपूर आनंद उठोलनि ! आ एहिना चारो धाम क यात्रा समाप्त क केँ दिल्ली क लेल प्रस्थान केलहूँ !
ऋषिकेश -हरिद्वार सँ दिल्ली
=======================
08 जून 2011 केँ भोरे हमसब हरिद्वार होयत दिल्ली क दिसँ चलि पड़लहूँ ! इ दूरी 250 किलोमीटर छल ! समय 7-8 घंटा लागिये जायत ! हम सब हँसैत -गबैत अपन मंजिल क दिसँ बढ़ल जा रहल छलहूँ ! साँझ भ गेल छल ! दिल्ली क चहलकदमी आ रोशनी क जगमगाहट एक विजय पर्व क एहसास दिया रहल छल ! एहि तरहें चारि – धाम क दिव्य झलक देखबा क भेटल जे आजन्म स्मृति मे घूमैत रहत ! दिव्य देवभूमि केँ सदैव नमन करैत छी !!
=====================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस .पी .कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
24.08.2023

254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
Gouri tiwari
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
2851.*पूर्णिका*
2851.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
57...Mut  qaarib musamman mahzuuf
57...Mut qaarib musamman mahzuuf
sushil yadav
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
VINOD CHAUHAN
*हनुमान के राम*
*हनुमान के राम*
Kavita Chouhan
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आज़ मैंने फिर सादगी को बड़े क़रीब से देखा,
आज़ मैंने फिर सादगी को बड़े क़रीब से देखा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*तेरी याद*
*तेरी याद*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
// अंधविश्वास //
// अंधविश्वास //
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" नयी दुनियाँ "
DrLakshman Jha Parimal
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
रुचि शर्मा
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
Rituraj shivem verma
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
दिए जलाओ प्यार के
दिए जलाओ प्यार के
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
Dont worry
Dont worry
*प्रणय प्रभात*
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...