Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

देवदासी

जातीय उत्पीड़न
और स्त्री-शोषण के
तीव्र दंश से
कहीं उसकी चेतना में
इतनी जागृति
न आ जाए कि
वह पूरी
व्यवस्था से ही
विद्रोह कर दे।
इसलिए तुमने
मंदिरों में
बंधक स्त्री को
देवदासी कह कर
उम्र भर
भरमाए रखा!
Shekhar Chandra Mitra
#devdasi #दलितउत्पीड़न #media
#स्त्रीविमर्श #dainikbhaskar #South
#SupremeCourt #औरत #बहुजन
#नारीवाद #हक़ #karnataka

Language: Hindi
1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बेहतर यही"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
कुदरत
कुदरत
manisha
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2995.*पूर्णिका*
2995.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक कतरा प्यार
एक कतरा प्यार
Srishty Bansal
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
■ सामयिक संदर्भों में...
■ सामयिक संदर्भों में...
*Author प्रणय प्रभात*
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुस्कुरा दीजिए
मुस्कुरा दीजिए
Davina Amar Thakral
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
Loading...