Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

देवदासी

जातीय उत्पीड़न
और स्त्री-शोषण के
तीव्र दंश से
कहीं उसकी चेतना में
इतनी जागृति
न आ जाए कि
वह पूरी
व्यवस्था से ही
विद्रोह कर दे।
इसलिए तुमने
मंदिरों में
बंधक स्त्री को
देवदासी कह कर
उम्र भर
भरमाए रखा!
Shekhar Chandra Mitra
#devdasi #दलितउत्पीड़न #media
#स्त्रीविमर्श #dainikbhaskar #South
#SupremeCourt #औरत #बहुजन
#नारीवाद #हक़ #karnataka

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
दलदल में फंसी
दलदल में फंसी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पुरुष अधूरा नारी बिन है, बिना पुरुष के नारी जग में,
पुरुष अधूरा नारी बिन है, बिना पुरुष के नारी जग में,
Arvind trivedi
*दशरथनंदन सीतापति को, सौ-सौ बार प्रणाम है (मुक्तक)*
*दशरथनंदन सीतापति को, सौ-सौ बार प्रणाम है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
💐अज्ञात के प्रति-38💐
💐अज्ञात के प्रति-38💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
Kavi Devendra Sharma
त्रिया चरित्र
त्रिया चरित्र
Rakesh Bahanwal
मतदान
मतदान
Sanjay
प्रेम में सब कुछ सहज है
प्रेम में सब कुछ सहज है
Ranjana Verma
बड़ी मुश्किल से आया है अकेले चलने का हुनर
बड़ी मुश्किल से आया है अकेले चलने का हुनर
कवि दीपक बवेजा
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना ,  किसी को नुकसान पह
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना , किसी को नुकसान पह
Seema Verma
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
है पत्रकारिता दिवस,
है पत्रकारिता दिवस,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...