Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2016 · 1 min read

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया — गज़ल

देखो न मुझ से रूठ के दिलबर चला गया
अब लौट कर न आएगा कहकर चला गया

कैसे पकड़ सके जिसे रब ने बचा लिया
पैकान से परिंदा जो उड कर चला गया

जो उम्र भर जुदा रहा गम ले गया उसे
वो रूह मुझ को दे गया पैकर चला गया

नजरें जिसे थी ढूंढती दिन रात जाग कर
वो ख़्वाब में आया मुझे छूकर चला गया

कठपुतलियाँ हैं हम यहाँ क्या हाथ अपने है
बस वक्त ले गया था जिधर उधर चला गया

जो उम्र भर जुदा रहा गम ले गया उसे
वो रूह मुझ को दे गया पैकर चला गया

रिश्तों को तार तार होते देर क्या लगी
सैलाब नफरतों का था आकर चला गया

बचपन मेरा ले आओ बुढ़ापा न चाहिए
ये चाल वक्त कैसी दिखा कर चला गया

1 Like · 7 Comments · 605 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
"माटी-तिहार"
Dr. Kishan tandon kranti
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
3333.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3333.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
देर तक शाख़ पर नहीं ठहरे
देर तक शाख़ पर नहीं ठहरे
Shweta Soni
*जिसका सुंदर स्वास्थ्य जगत में, केवल वह धनवान है (हिंदी गजल)
*जिसका सुंदर स्वास्थ्य जगत में, केवल वह धनवान है (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
प्रीत प्रेम की
प्रीत प्रेम की
Monika Yadav (Rachina)
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
दिनकर तुम शांत हो
दिनकर तुम शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
यूं मेरी आँख लग जाती है,
यूं मेरी आँख लग जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#ज़मीनी_सच
#ज़मीनी_सच
*प्रणय प्रभात*
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
Neelam Sharma
बचपन की मोहब्बत
बचपन की मोहब्बत
Surinder blackpen
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
जगदीश लववंशी
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
Loading...