Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

वजह ऐसी बन जाऊ

मुझे तो हर घरी हर पल, तेरे ख्वाबों में है रहना
तेरा खुमार हो मुझ पर, वही हर लब्ज़ में कहना
मुझे अपनी निगाहों में, इस तरह से छुपा लेना
वजह ऐसी बन जाऊ कि, तेरे जिस्म समंदर मे
मुझे हो डूबते रहना – मुझे हो डूबते रहना ।

कभी वो नीर बनकर मैं, तेरी आंखों से बह जाऊ
कभी वो रक्त बनकर मैं, तेरे रग रग में रह जाऊ
हो इतना मोहब्बत की,तेरी सांसों से होकर मैं
गुजर जाऊ उस धड़कन से, जहां आवाज धड़कन की
मुझे आवाज वो सुनना – मुझे आवाज वो सुनना |

कोई कांटे चुभती तुम तो, लगता फूल सा कोमल
कोई तकलीफ देती तुम, तो हो जाता वो अहम पल
कभी वो बूंद बनकर के, मुझे आकर भीगा देना
कि हो एहसास का वो पल, जो भरी हो मोहब्बत से .
मुझे उसमें ही है रहना – मुझे उसमें ही है रहना | –

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
🌾☘️वनस्पति जीवाश्म☘️🌾
🌾☘️वनस्पति जीवाश्म☘️🌾
Ms.Ankit Halke jha
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
ऐ मोनाल तूॅ आ
ऐ मोनाल तूॅ आ
Mohan Pandey
कैसा जुल्म यह नारी पर
कैसा जुल्म यह नारी पर
Dr. Kishan tandon kranti
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
* मायने हैं *
* मायने हैं *
surenderpal vaidya
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
Dr fauzia Naseem shad
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कवि दीपक बवेजा
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
🔘सुविचार🔘
🔘सुविचार🔘
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
sushil sarna
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
आज वक्त हूं खराब
आज वक्त हूं खराब
साहित्य गौरव
शब्द मधुर उत्तम  वाणी
शब्द मधुर उत्तम वाणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...