Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

I got forever addicted.

When I reached home and opened the door,
My heart skipped a bit to find the rose petals on the floor.
In that candlelight aura, I saw your captivating smile,
You adored me and promised to walk with me each mile.
The mouthwatering red velvet cake witnessed our rise of romantic emotion,
The candles were unaware of melting, and their billowing flames were dancing in inebriation.
Your eyes sparkled with the love and passion I never felt before,
The tears formed in my eyes to realize that our sinking ship did meet its shore.
I wanted that moment to freeze and never let it go,
The curtains danced on the breeze and made the happiness grow.
I never believed in my fate and the love you long predicted,
But the stars conspired to tie our destiny, and I got forever addicted.

1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Manisha Manjari

You may also like:
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
# मंजिल के राही
# मंजिल के राही
Rahul yadav
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख़ुश-फ़हमी
ख़ुश-फ़हमी
Fuzail Sardhanvi
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
'अशांत' शेखर
तीन दोहे
तीन दोहे
Vijay kumar Pandey
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-203💐
💐प्रेम कौतुक-203💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दोस्ती के धरा पर संग्राम ना होगा
दोस्ती के धरा पर संग्राम ना होगा
Er.Navaneet R Shandily
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
तुम भोर हो!
तुम भोर हो!
Ranjana Verma
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
DrLakshman Jha Parimal
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
Ms.Ankit Halke jha
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
डियर कामरेड्स
डियर कामरेड्स
Shekhar Chandra Mitra
छोड़ दे गम, छोड़ जाने का
छोड़ दे गम, छोड़ जाने का
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपकी यादें
आपकी यादें
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
कथित साझा विपक्ष
कथित साझा विपक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
गाथा हिन्दी की
गाथा हिन्दी की
तरुण सिंह पवार
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सत्य कुमार प्रेमी
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
Loading...