Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

देखकर दंग हूँ उसकी जादूगरी

देखकर दंग हूँ उसकी जादूगरी !
इक नजर क्या मिली दिल फ़िदा हो गया !!

मीठी मुस्कान थी चाँद के चेहरे पर !
भूल कर सारे गम खुशनुमा हो गया !!

बात आँखों ने की दिल धड़कता रहा !
हाल ए दिल का सुना चुप जुबां हो गया !!

सबकी नजरे बचाकर मुझे देखना !
यार मनमे कहू इसको क्या हो गया !!

था सफ़र में ये जुगनू कहा कुछ नही !
ट्रेन दिल्ली रुकी अलविदा हो गया !!

277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
हर जगह तुझको मैंने पाया है
हर जगह तुझको मैंने पाया है
Dr fauzia Naseem shad
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या रावण अभी भी जिन्दा है
क्या रावण अभी भी जिन्दा है
Paras Nath Jha
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Oh, what to do?
Oh, what to do?
Natasha Stephen
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
Shweta Soni
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसे जीना जिंदगी,
ऐसे जीना जिंदगी,
sushil sarna
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
"श्रमिकों को निज दिवस पर, ख़ूब मिला उपहार।
*Author प्रणय प्रभात*
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
सत्य होता सामने
सत्य होता सामने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...