Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

देखकर एक झोपड़ी आँख मेरी रो पड़ी

देखकर एक झोपड़ी आँख मेरी रो पड़ी !

सो रहा था एक बच्चा माँ की अपनी गोद में !
गोद में गुदड़ी नहीं थी साड़ी लिपटी तोद में !!

कह रही थीं माँ की ममता लाल मेरा सो गया !
दिन में अच्छा था भला रात में क्या हो गया !!

कोई तो उसको जगा दे आई कैसी ए घड़ी !
देखकर एक झोपड़ी आँख मेरी रो पड़ी !!

ठंड थीं उस दिन भयानक तन में कपड़े थे नहीं !
रब ना दे ऐसी गरीबी आँख मुझसे कह रही !!

सो गया भूखा वो बच्चा भाइयों के साथ में !
साथ में था माँ का आँचल टुकड़ा रोटी हाथ में !!

वोट पाकर खुश है नेता बात करता है बड़ी !
देखकर एक झोपड़ी आँख मेरी रो पड़ी !!

Language: Hindi
2 Comments · 694 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*करते हैं प्रभु भक्त पर, निज उपकार अनंत (कुंडलिया)*
*करते हैं प्रभु भक्त पर, निज उपकार अनंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हायकू
हायकू
Ajay Chakwate *अजेय*
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
आइए मोड़ें समय की धार को
आइए मोड़ें समय की धार को
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुख्तसर हयात है बाकी
मुख्तसर हयात है बाकी
shabina. Naaz
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जो अपने अज़्म की
जो अपने अज़्म की
Dr fauzia Naseem shad
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
कवि रमेशराज
असंवेदनशीलता
असंवेदनशीलता
Shyam Sundar Subramanian
एक इंतज़ार दीजिए नई गज़ल विनीत सिंह शायर के कलम से
एक इंतज़ार दीजिए नई गज़ल विनीत सिंह शायर के कलम से
Vinit kumar
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-529💐
💐प्रेम कौतुक-529💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
विचारमंच भाग -2
विचारमंच भाग -2
डॉ० रोहित कौशिक
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
DrLakshman Jha Parimal
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...