Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है

दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
ना जाने क्यूं उसको पाने की चाहत लग जाता है
हाल मत पूछना की तनहाई में कैसे तड़पते है
ना जाने क्यूं ये इश्क में ऐसा आदत लग जाता है

—S.K.BARMAN
#दिलकीबातशायरी143

1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता....!
खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता....!
VEDANTA PATEL
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
पूर्वार्थ
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
माँ बाप बिना जीवन
माँ बाप बिना जीवन
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
शेखर सिंह
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*प्रणय प्रभात*
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
कुरुक्षेत्र में कृष्ण -अर्जुन संवाद
कुरुक्षेत्र में कृष्ण -अर्जुन संवाद
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...